मंडल कारा में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन जा रहे है अनिश्चित कालीन अनशन पर…

1972

रिहाई के इंतज़ार में बंंद आनंद मोहन ने किया शंंखनाद

सहरसा : मंडल कारा सहरसा में रिहाई का इंतज़ार कर रहे पूर्व सांसद आनंद मोहन जेल की मूलभूत समस्याओं को लेकर शुक्रवार से अनिश्चित कालीन अनशन पर जाने की घोषणा किए है ।मंडल कारा सहरसा में बंद पूर्व सांसद ने जेल में हो रही 11 समस्याओं से अवगत कराते हुए अनशन पर जाने की घोषणा की है।

पूर्व सांसद ने पहली मांग कोरोना के बहाने पिछले डेढ़ साल से मुलाकात , सामान औऱ पैसे आना बंद है । साथ ही’ ई मुलाकात या  दूरभाष पर बातचीत भी नहीं कराया जाता । ■भीषण गर्मी के बावजूद पंखे नहीं लगाए गए । पुराने प्रायः सभी पंखे खराब हैं । पर मरमत्ती नहीं हुए । वर्षों से पूरे जेल का वायरिंग जर्जर है । स्थायी बिजली और चापाकल मिस्त्री नहीं है ।
■शौचालय खराब पड़े हैं । सभी पखाना टंकी फटे और भरे पड़े हैं ।
■चंद दलाल टाईप क़ैदी को छोड़ वर्षों से बंदियों को पारिश्रमिक राशि नहीं दिए गए ।
■कैदियों को मिलने वाले परिहार वर्षों नहीं दिए ।
■कई अनशन और आश्वासन के बावजूद शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं ।
■वर्षों से जिम खराब हैं , खेल-कूद की कोई व्यवस्था नहीं ।■जर्जर पाकशाला , क्षमता से अधिक बंदियों के बावजूद बर्तन , थाली- ग्लास , कपड़े -साबून की भारी कमी ।
■वार्डों मे खिड़कियों के पल्ले नहीं । आंधी-बारिश , लू -जाड़े में भीषण कठिनाई ।
■समुचित चिकित्सा और दवा का घोर अभाव ।
■समयावधि की समाप्ति पर भीपुराने बंदियों को कोरोना का दूसरा और नए को पहला डोज नहीं ।पूर्व सांसद उपरोक्त इन प्रमुख माँगों को लेकर कल शुक्रवार से सैकडों बंदियों के साथ अनिश्चित कालीन अनशन पर पूर्व सांसद आनंद मोहन जाएंगे और इस क्रम में महिला एवं बीमार बंदियों को अनशन से मुक्त रखा गया है ।