10 जुलाई को राष्ट्रीय लोक अदालत का होगा आयोजन

923

अधिक से अधिक वादों का निष्पादन किया जा सके।

सहरसा :  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार दिल्ली एवं बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार, पटना के निर्देश के आलोक में जिला विधिक सेवा प्राधिकार, सहरसा के तत्वाधान में सहरसा व्यवहार न्यायालय के परिसर में आगामी 10 जुलाई 2021 को पूर्वाह्न 10ः30 बजे से राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें मुकदमा पूर्व वाद यथा-सुलहनीय अपराधिक वाद, NI Act की धारा 138 के अंतर्गत वाद, मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण  (MACT), श्रम संबंधी मामले, बिजली और पानी के बिल के मामले ( Non-Compoundable}  मामले को छोड़कर), वैवाहिक विवाद (तलाक के मामले को छोड़कर), बैंक ऋण संबंधित मामले, टेलिफोन संबंधित मामले, उत्पाद विभाग से संबंधित मामले, सेवा (वेतन, भत्ता एवं सेव निवृति लाभ से संबंधित) मामले, अन्य दीवानी मामले (किराया, सुखाधिकार, निषेधाज्ञा वाद, विनिर्दिष्ट, कार्य वाद) आदि उपरोक्त वादों एवं विवादों के समझौता के आधार पर वादों का निष्पादन किये जाएंगे।10 जुलाई 2021 को आयोजित होने वाले राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल आयोजन को लेकर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री विनोद कुमार शुक्ला, ने अपने कार्यालय वेश्म में श्री रवि रंजन सचिव, ज़िला विधिक सेवा प्राधिकार सह अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश, श्री शम्भू नाथ झा, अनुमंडल पदाधिकारी, सदर , श्री बीरेंद्र कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सिमरी बख्तियारपुर, श्री प्रभात रंजन, कार्यपालक पदाधिकारी नगर परिषद, सहरसा के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वादों के निष्पादन के संदर्भ में लोक अदालत के आयोजन की तिथि के पूर्व प्री-सीटींग के तहत वादों की सुनवाई की जाएगी तथा उनका निस्तार 10 जुलाई 2021 को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से किया जाएगा ताकि कोविड प्रोटोकॉल के तहत न्यूनतम व्यक्तियों की उपस्थिति एवं अधिक से अधिक वादों का निष्पादन किया जा सके। प्री-सिटींग की सुनवाई 01 जुलाई 2021 से 08 जुलाई 2021 के बीच कार्यालय कार्यावधि 10ः00 बजे पूर्वाह्न से 5ः00 बजे अपराह्न तक की जाएगी। जहाँ दुर्गम क्षेत्र है एवं आवागमन में कठिनाई है वैसी परिस्थिति में उक्त क्षेत्र के अंतर्गत पारा लीगल वॉलेंटियर, थाना/चौकीदार के माध्यम से वर्चुअल मोड में प्री-सीटिंग की सुनवाई की जाएगी। उन्होंने राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से त्वरित न्याय एवं वादों के निष्पादन के लिए अधिक से अधिक लोगों को इस अवसर का लाभ उठाने का अनुरोध किया है। इस संबंध में उन्होंने आमजन को प्रोत्साहित करने हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार का निर्देश दिया है।