सुहागन हिन्दू महिलाओं ने की बट सावित्री की पूजा


मधुबनी से मोo आलम अंसारी की रिपोर्ट

अंधराठाढ़ी।प्रखंड परिक्षेत्र में गुरुवार को सुहागिन हिन्दू महिलाओं ने श्रद्धापूर्वक वट सावित्री की पूजा की। व्रत रखकर महिलाओं ने अपने सुहाग की रक्षा और कल्याण  की कामना की। बताते चलें कि वट सावित्री पूजन सुहागिन हिन्दू महिलाओं का एक महत्वपूर्ण व्रत है।इसको को लेकर प्रात: से ही महिलाओं की भीड़ मंदिर एव गांव के विभिन्न बरगद पेड़ों के नीचे दिखने लगी थी।इसमे रंग बिरंगे परिधान पहन और सोलह श्रृंगारों में सज धज कर पूजा अर्चना करने का विधान है। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच महिलाओं ने पंचोपचार विधि से वट वृक्ष का पूजन किया एवं बट वृक्ष में कच्चा सूत बांधकर उसकी परिक्रमा की। दिनभर सड़कों पर रंग बिरंगे परिधानों में  सजी धजी  महिलायें बट बृक्ष की ओर आती जाती दिखी।फूल कुमारी देवी, सिला देवी  गायत्री देवी, ललिता देवी, मंजू देवी आदि महिलाओं ने बताया कि वे इस पर्व को लेकर उनलोंगो ने  व्रत रखी और पूजन के दौरान  सदा-सुहागिन रहने की मनौती मांगी है। पूनम देवी, उर्मिला देवी, संगीता देवी, आदि बृद्ध सुहागिन माताओं ने इस व्रत के संदर्भ में बताया कि पुरातनकाल में सती सावित्री ने इस व्रत को किया था तथा सदा-सुहागन रहने की मंगलकामना की थी। व्रत के परिणामस्वरूप उनके पति की उम्र पूरी हो जाने के बाद भी यमराज ने पुन: उन्हें जीवनदान दिया था। तबसे यह व्रत पृथ्वीलोक पर प्रचलित है और हिन्दू सुहागिन महिलाएं इस व्रत को करती आ रही हैं।