दूसरी बार कोरोना को मात दे काम पर लौटे डीसीएम राहुल किशोर

1192

लोगों को कोविड उचित व्यवहार पालन करने का दे रहे संदेश

कोरोना योद्धा के तौर पर बनायी अपनी पहचान

कोविड नियमों एवं उचित व्यवहार का पालन करते हुए दोनों बार हुए ठीक

सहरसा: जिले में नये कोरोना संक्रमितों की संख्या में उतार-चढ़ाव जारी है। कोरोना संक्रमण के दौरान स्वास्थ्य विभाग के लोगों द्वारा लगातार कोरोना के नियमों का पालन किया जाता रहा है। फिर भी कोरोना संक्रमितों की सेवा में लगे कुछ स्वास्थ्य अधिकारी, चिकित्सक तथा कर्मी कोरोना संक्रमित हो गए। इसी क्रम में जिला स्वास्थ्य समिति, सहरसा के जिला सामुदायिक उत्प्रेरक राहुल किशोर दूसरी बार संक्रमित हो गए। पिछले वर्ष कोरोना संक्रमण की पहली लहर में भी राहुल किशोर संक्रमित हो गए थे। जब ये पहली बार संक्रमित हुए थे तो इन्होंने होम आइसोलेशन, कोविड संबंधी उचित व्यवहार तथा चिकित्सकों के परामर्श अनुसार दवाओं का सेवन करते हुए कोरोना को हराने में सफलता पाई थी। पहली बार कोरोना को मात देते हुए वे अपने कर्त्तव्य पर वापस उसी उत्साह के साथ जुट गये।विगत कुछ दिन पूर्व राहुल किशोर कोरोना की दूसरी लहर में दूसरी बार संक्रमित हो गये। इस बार फिर होम आइसोलेशन एवं चिकित्सकों के सलाह अनुरूप दवाओं का सेवन के साथ-साथ कोविड नियमों का पालन करते हुए स्वस्थ्य होकर अपने काम पर लौट आये हैं।

लोगों को कोविड उचित व्यवहार पालन करने का दे रहे संदेश
दूसरी बार कोरोना को मात दे काम पर लौटे राहुल किशोर लोगों को कोरोना काल में कोविड उचित व्यवहार पालन करने की अपील करते हुए कहा लोगों को मास्क जरूर लगाना चाहिए। इतना ही नहीं मास्क को सही तरीके से अवश्य लगायें। इससे अपके मुंह और नाक अच्छी तरह से ढके रहेंगे तभी यह मास्क आपको संक्रमण से बचायेगा। मास्क को साफ एवं स्वच्छ रखें, दो से तीन दिनों में इसे बदलते रहें। मास्क को बार-बार हाथों से न छूयें। मास्क कुछ इस तरह से पहनें कि इसे बार-बार छूना न पड़े। मास्क कोविड से बचाव का सबसे जरूरी अंग है। इसके साथ हाथों को बार-बार सैनिटाइज जरूर करें। सतहों पर कोविड वायरस अधिक दिनों तक सक्रिय रह सकते हैं, ऐसे में हाथों का कोविड वायरस के संपर्क में आ सकता है। इसलिए हाथों को सैनिटाइज करें और तीन चार घंटों पर हाथों को साबुन पानी से अवश्य धोयें। भीड़ भाड़ से बचने के बारे में राहुल किशोर ने कहा अब लगभग सभी लोग जब भी मिलतें हैं तो आवश्यक समाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हैं। इसके लिए संयम बरतें, अपनी बारी का इंतजार करें और लोगों को भी समाजिक दूरी के नियमों का पालन करने का अनुरोध करें।कोरोना योद्धा के तौर पर बनायी अपनी पहचान
मृदुभाषी और कठोर परिश्रमी जिला सामुदायिक उत्प्रेरक राहुल किशोर जिला स्वास्थ्य समिति में सभी के चहेते हैं। इनके व्यवहार से कार्यालय में कायर्रत सभी लोग इनकी प्रसंशा करते नहीं थकते। दो बार कोरोना को मात देकर काम पर लौटे राहुल किशोर आज जिले में कोरोना योद्धा के रूप में जाने जाते हैं। जिला स्वास्थ्य समिति में कार्य करने के दौरान इन्हे सदर अस्पताल के विभिन्न कार्यालयों में बार-बार जाना पड़ता है, इस दौरान वे संक्रमित हो गये।

कोविड नियमों एवं उचित व्यवहार का पालन करते हुए दोनों बार हुए ठीक
राहुल किशोर ने बताया जब वे पहली बार संक्रमित हुए थे तो कुछ घबराहट उन्हें हुई थी। लेकिन सरकारी गाइड लाइन के अनुरूप होम आइसोलेशन एवं चिकित्सकों के सलाह अनुरुप दवाओं के सेवन से वे ठीक हो गये थे। इस बार भी संक्रमित हो जाने के बाद पहली बार की तरह घबराहट नहीं हुई। उन्होंने कोविड उचित व्यवहार का अक्षरशः पालन करते हुए होम आइसोलेन में रहते हुए दवाओं का सेवन कर कोरोना को दूसरी बार मात देने में सफलता पायी।