सरकार को मानव सेवा पसंद नहीं : किशोर कुमार

662

पप्पू यादव की गिरफ्तारी को संवेदनहीनता की परकाष्ठा बताया

सहरसा : नवनिर्माण मंच के संस्थापक सह पूर्व विधायक किशोर कुमार ने कोरोना महामारी के दौरान घूम – घूम कर लोगों की मदद व सेवा करने वाले पूर्व सांसद व जाप नेता पप्पू यादव की गिरफ्तारी को संवेदनहीनता की परकाष्ठा बताया। उन्होंने कहा कि कोरोना से पीड़ित मरीजों के लिए ऑक्सीजन, दवाई, बेड देने में सरकार अक्षम हो, तब को जन प्रतिनिधि मानवता की सेवा के लिए अपनी जान जोखिम में डाल पर पीड़ित के साथ खड़ा हो, तब उसकी गिरफ्तारी संवेदनहीनता की पराकष्ठा है।

किशोर कुमार ने कहा कि सरकार उनपर IPC की धारा-188, 269, 270 तथा PANDEMIC ACT 3/4 लगाएगी, इसमें 7 वर्ष से कम की सजा है। लेकिन हो सकता है कि यह धारा नहीं लगाए और कहे कि पुराना गिरफ्तारी वारंट कोर्ट से निकला है उसमें उन्हें गिरफ्तारी हुई। माननीय सर्वोच्च न्यायालय का स्पष्ट आदेश है कि इस महामारी में किसी पर वारेंट भी है, तो जल्दी गिरफ्तार न करे। लेकिन सरकार तो सरकार है, सर्वोच्च से भी ऊपर। किसी सरकार को मानव सेवा पसंद नहीं है। यह अनर्थ है।

इसके अलावा उन्होंने बिहार के मंत्री के क्षेत्र में भूसा रखने के काम आ रहे स्वास्थ्य केंद्र को लेकर चिंता जाहिर की और कहा कि ऐसे में हम कैसे कोरोना से जंग लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि मंत्री जी के क्षेत्र वनगांव उत्तर का स्वास्थ्य केंद्र आज भूसा रखने के काम आ रहा है। ऐसे में कैसे कोरोना से हम लड़ेंगे, जब स्वास्थ्य केंद्र में ईलाज की जगह भूसा रखा जाता हो। बेहद दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है यह।