पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल कर लगाया जा रहा कोविड-19 टीका

जिले के विभिन्न मीडिया के ब्यूरो चीफ सहित अन्य मीडिया प्रतिनिधियों ने बुधवार को ली वैक्सीन

जीएनएम् स्कूल में शुरू हुआ टीकाकरण, पत्रकारों को दी गयी प्राथमिकता

सहरसा : कोरोना महामारी से बचाव के लिए पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल कर कोविड-19 का टीका लगाने का निर्देश राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार द्वारा दिया गया था| पत्र में निर्देश जारी कर सभी जिले के सिविल सर्जन को इस सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया था ।

टीका लेते हुए कोशी xpress के संस्थापक कुणाल

जारी पत्र में निर्देश दिया गया है कि सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त (एक्रेडिटेड) सभी पत्रकारों के साथ साथ जिला जनसंपर्क पदाधिकारी द्वारा सत्यापित प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक एवं वेब मीडिया के पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल कर उन्हें कोविड-19 का टीकाकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जाय | इसी क्रम में बुधवार को सहरसा जिले के प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक एवं वेब मीडिया के ब्यूरो चीफ सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने जीएनएम् स्कूल में कोरोना का टीका लिया | जीएनएम् स्कूल में पत्रकारों के टीकाकरण मौके पर उप-निदेशक सह जिला जन-संपर्क पदाधिकारी दिलीप कुमार देव, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद तथा यूएनडीपी के मोहम्मद मुमताज खालिद एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे |

पत्रकारों के स्वास्थ्य सुरक्षा के प्रति स्वास्थ्य विभाग है सजग :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद ने कहा राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार द्वारा जारी पत्र में कहा गया था कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में हर कोई एक योद्धा के रूप में अपने कर्तव्यों का बखूबी निर्वहन कर रहा है। इस संक्रमण के खिलाफ चिकित्सक, पुलिस कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मी के साथ साथ जिले के पत्रकार भी योद्धा के रूप में कार्य कर रहे हैं। इसी बात को संज्ञान में रखकर पत्रकारों के स्वास्थ्य सुरक्षा के प्रति चिंतित स्वास्थ्य विभाग ने प्राथमिकता के आधार पर पत्रकारों के टीकाकरण का अहम निर्णय लिया । इसको लेकर पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में शामिल कर कोविड-19 का टीकाकरण किए जाने का आदेश राज्य स्वस्थ्य समिति द्वारा दिया गया है |

कोविड-19 टीके के दोनों डोज हैं जरूरी:
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद ने कहा कोविड-19 का टीका दो डोज में पूरा किया जाएगा। सभी लाभार्थियों को दोनों डोज लेना अनिवार्य है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोविड-19 का टीकाकरण कारगर हथियार साबित हो रहा है। वैक्सीन के दोनों डोज लेने के करीब 4 सप्ताह बाद कोविड-19 के खिलाफ शरीर में प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है। ऐसे में टीका लेने के बाद भी सावधानी बरतना अति आवश्यक है। पहला डोज लेने के बाद समय अंतराल पूरा होने पर दूसरा डोज भी अवश्य लें। तभी आप खुद को और अपने परिवार को सुरक्षित रख सकेंगे।

लॉकडाउन के नियम का पालन करें एवं घर में रहें- सुरक्षित रहें
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने आमजनों से अपील करते हुए कहा जिला प्रशासन द्वारा जारी किये गये लॉकडाउन के गाइड लाइनों का अक्षरशः पालन करते हुए इस दौरान जितना हो सके अपने घरों में रहें, जहाँ आप सबसे अधिक सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा महामारी से बचाव के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण है कि कोरोना की गाइडलाइन का पालन हर हाल में करना चाहिए | घर से बाहर निकलते वक्त मास्क लगाना, भीड़-भाड़ से बचना, 2 गज दूरी बनाकर रहना, सामाजिक दूरी इत्यादि नियमों का पालन हर हाल में करते रहें |