Oxygen सिलेंडर आपूर्तिकर्ता एजेंसियों के प्रतिनिधियों के साथ जिलाधिकारी कौशल कुमार ने की बैठक

906
सिलेंडर का जिला प्रसाशन के पर्यवेक्षण में रिकार्ड रखा जाएगा और वितरण किया जाएगा
सहरसा : कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए ऑक्सीजन की उपलब्धता के संदर्भ में निजी एवं सरकारी अस्पतालों को आक्सीजन गैस सिलेंडर आपूर्तिकर्ताओ एजेंसियों के प्रतिनिधियों के साथ जिलाधिकारी कौशल कुमार ने अपने कार्यालय वैश्म में बैठक की।आपूर्तिकर्ताओं द्वारा बताया गया कि सामान्य दिनों में चिकित्सा संबंधी जरूरतों के लिए 50 सिलेंडर प्रतिदिन की आवष्यकता होती है लेकिन वर्तमान में कोरोना संक्रमण से पीड़ित मरीजों के लिए 100 आक्सीजन गैस सिलेंडर की आपूर्ति हेतु निजी एवं सरकारी अस्पतालों में मांग बढ़ी है। मुख्यतः दरभंगा स्थित ऑक्सीजन प्लांट से सहरसा जिले के लिए आक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। साथ हीं भागलपुर से भी रिफीलिंग कर आक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। सदर अस्पताल में वर्तमान में 208 सिलेंडर उपलब्ध हो गये हैं और वर्तमान में सदर अस्पताल में 8-10 सिलेंडर प्रतिदिन की खपत है। वहीं वर्तमान में निजी अस्पतालों में 100 ऑक्सिजन सिलेंडर प्रतिदिन जरूरत है।
जानकारी दी गई कि कल स्थानीय आपूर्तिकर्ता कोशी गैस एजेंसी को दरभंगा से एवं आलम गैस एजेंसी को भागलपुर से एक-एक ट्रक ऑक्सीजन सिलेंडर प्राप्त हो चुका है। वहीं आज दरभंगा स्थित प्लांट में आलम गैस एजेंसी को ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की आपूर्ति की जा रही है जो संध्या तक सहरसा पहुँच जाएगा।
उल्लेखनीय है कि आक्सीजन गैस सिलेंडर आपूर्ति के लिए दरभंगा स्थित प्लांट से सहरसा जिला संबद्ध है। जिलाधिकारी के विशेष प्रयास से भागलपुर से भी आज कोशी गैस एजेंसी को ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति की जा रही है। इस संबंध में जिलाधिकारी द्वारा भागलपुर के जिलाधिकारी से दूरभाष से सम्पर्क कर सहरसा जिला के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति हेतु अनुरोध किया गया है। दरभंगा स्थित प्लांट में सहरसा जिला के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर के आपूर्ति सुनिष्चित कराने हेतु एक वरीय उप समाहर्ता की प्रतिनियुक्ति की गई है। सहरसा जिला में कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन की आवष्यकता के अनुरूप आपूर्ति में अब कोई समस्या नहीं है। उन्होंने गैस एजेंसियों से कहा कि प्राप्त आक्सीजन सिलेंडर को प्राथमिकता के आधार पर कोविड मरीजों के ईलाज हेतु निजी एवं सरकारी अस्पतालों को हीं उपलब्ध कराएं। उन्होंने हिदायत देते हुए कहा कि अभी आपदा एवं क्राइसिस का समय है, जो भी सिलेंडर प्राप्त हो रहे हैं उसे अन्यत्र ना दें। सभी प्राप्त
सिलेंडर का जिला प्रसाशन के पर्यवेक्षण में रिकार्ड रखा जाएगा और वितरण किया जाएगा। जिले के तीनों आपूर्तिकर्ताओं एजेंसियों के लिए एक-एक दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है, जिला प्रसाशन के देख-रेख में हीं आक्सीजन सिलेंडर का वितरण किया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिया कि खाली सिलेंडर को यथाषीघ्र भेजकर रिफील करा लें वर्तमान में कोशी गैस एजेंसी के पास 50 एवं आलम गैस एजेंसी के पास 100 खाली सिलेंडर है जिन्हें आज हीं दरभंगा प्लांट भेजकर रिफील कराने का निर्देश दिया गया।
 आक्सीजन की अन्य जिलों से प्राप्ति के संदर्भ में जिलाधिकारी ने कहा कि आने वाले दिनों में आक्सीजन की मांग बढ़ेगी। सहरसा में हीं रिफीलिंग प्लांट लगाने से जिला में आक्सीजन की आपूर्ति की समस्या दूर होगी तथा अन्य जिलों को भी यहां से उपलब्ध कराया जा सकेगा।
उन्होंने इस संदर्भ में आक्सीजन गैस आपूर्तिकर्ता से कहा कि आप बड़े सप्लायर हैं सहरसा में हीं आक्सीजन प्लांट स्थापित करें। इसके लिए जिला प्रषासन की तरफ से सभी हरसंभव सहयोग प्राप्त होगा। जिलाधिकारी के अनुरोध पर आलम गैस एजेंसी ने कहा कि आक्सीजन गैस प्लांट लगाने में न्यूनतम पन्द्रह हजार वर्गफीट भूमि की आवष्यकता होती है। सहरसा में उनके स्तर से एन.एच बाईपास पटुआहा के निकट उनके उपलब्ध भूमि पर क्रायोजनिक आक्सीजन प्लांट स्थापित किये जाने का प्रस्ताव है। जिलाधिकारी ने आष्वस्त करते हुए कहा कि प्रषासनिक स्तर से सभी प्रकार का सहयोग उपलब्ध कराया जाएगा। यहां प्लांट लगने से सड़क मार्ग से जुड़े रहने के कारण पूर्णियाँ, मधेपुरा आदि जिलों को भी आपूर्ति में सुविधा होगी। यथाषीघ्र प्लांट लगाने हेतु आवेदन कर प्रक्रिया पूरा करते हुए इस दिषा में अग्रेतर कार्रवाई करें।            बैठक में उप विकास आयुक्त राजेश
 कुमार सिंह, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, जिला स्वास्थ्य प्रबंधक, कोशी गैस एजेंसी एवं आलम गैस एजेंसी के प्रतिनिधि उपस्थित थे।