डीएम ने जिलावासियों से की अपील:सतर्क,सचेत एवं सावधान रहें

1525
ज़िले में सक्रिय पॉजिटिव मरीज की संख्या 1538 
प्रत्येक परिवार को निःशुल्क 6-6 मास्क उपलब्ध कराया जाएगा
कई निजी अस्पताल एवं क्लिनिक कोरोना जांच व ईलाज को आए आगे
सहरसा : कोरोना संक्रमण के मामलों में अप्रत्याशित वृद्धि के मद्देनजर जिलाधिकारी कौशल कुमार ने वीडियो संदेश जारी कर जिलावासियों से अपील की है कि वर्तमान समय में सतर्क, सचेत एवं सावधान रहने की आवश्यकता है और सावधानी हीं बचाव है। उन्होंने जिलावासियों से अनुरोध करते हुए कहा कि जिले में संक्रमण की स्थिति काफी क्रिटीकल है, सरकार एवं जिला प्रशासन के द्वारा जारी गाइड लाइन का अक्षरशः पालन करें। भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने से बचें। अपने घरों में हीं रहें। यदि आवश्यक कार्य हेतु घर से निकलना पड़े तो मास्क अवश्य हीं पहनकर निकलें। जिलान्तर्गत कुल- 57 सेशन साइट पर टीकाकरण का कार्य किया जा रहा है। लक्षित समूह के व्यक्ति इन टीकाकरण सेशन साइट पर जाकर टीका अवश्य ले लें। कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थिति के संबंध में जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि 20 अप्रै्री्रीलल को कुल-245 पॉजिटिव मामले मिले हैं। वहीं कल 30 पॉजिटिव मरीज जो पहले होम आइसोलेशन में थे उन्हें सफलतापूर्वक उपचार के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। साथ हीं कल कोरोना संक्रमण से 01 (एक) व्यक्ति की मृत्यु भी हुई है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के दूसरे वेब में 09 मार्च 2021 से अबतक 59,927 सेम्पल की जाँच की गई जिसमें से 1961 पॉजिटिव मरीज चिन्हित हुए। स्वस्थ्य होने वाले पॉजिटिव मरीजों की संख्या 541 है। 18 पॉजिटिव मरीजों को उच्च संस्थान में बेहतर ईलाज के लिए रेफर किया गया है। कोरोना संक्रमण से अबतक कुल-03(तीन) व्यक्तियों की मृत्यु हुई है। इस प्रकार वर्तमान में सक्रिय पॉजिटिव मरीज की संख्या 1538 है जिनका होम आइसोलेशन में ईलाज चल रहा है। सहरसा जिले में पॉजिटिविटी का दर 3.27 प्रतिशत है। कुल-271 सक्रिय कन्टेनमेन जोन है जिनमें शहरी क्षेत्र में 136 एवं ग्रामीण क्षेत्र में 135 कन्टेनमेन जोन बनाये गए हैं। कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत अबतक लक्षित समूह के 94,531 व्यक्तियों को प्रथम डोज एवं 12,712 व्यक्तियों का दूसरे डोज का टीकाकरण किया गया है।
  आज अपने कार्यालय वेश्म में जिलाधिकारी ने निजी अस्पतालों एवं क्लिनिक में कोरोना संक्रमण की जाँच एवं पीड़ित मरीजों के ईलाज हेतु सरकार के दिशा-निर्देश के आलोक में सहरसा जिले में अवस्थित दो चिकित्सा महाविद्यालय यथा-लार्ड बुद्धा मेडिकल कॉलेज एवं नारायणा मेडिकल कॉलेज के प्रतिनिधियों तथा निजी अस्पतालों एवं क्लिनिक के संचालकों के साथ बैठक की। जिलाधिकारी ने उक्त दोनों चिकित्सा महाविद्यालयों से अनुरोध किया कि कोरोना संक्रमित गंभीर मरीजों के ईलाज के लिए कोविड डेडीकेटेड बेड एवं आई.सी.यू. की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय ताकि कोरोना संक्रमण के गंभीर मरीजों का बेहतर ईलाज सहरसा में हीं किया जा सके। वर्तमान में गंभीर मरीजों को जिला से बाहर उच्च स्वास्थ्य संस्थानों में रेफर करना पड़ रहा है लेकिन जिला में हीं गंभीर मरीजों के बेहतर ईलाज की सुविधा उपलब्ध होने पर मरीजों को जिले से बाहर अन्यत्र नहीं जाना पड़ेगा।
लॉर्ड बुद्धा मेडिकल कॉलेज एवं नारायणा मेडिकल कॉलेज द्वारा अपने यहां अलग विंग स्थापित कर 10-10 आइसीयू सहित कोविड डेडीकेटेड बेड की व्यवस्था की सहमति व्यक्त की गई। जिलाधिकारी द्वारा सरकार के दिशा-निर्देश के आलोक में निजी अस्पतालों/क्लिनिक में कोरोना संक्रमण की जाँच एवं इलाज हेतु किये गये अनुरोध पर लॉर्ड बुद्धा मेडिकल कॉलेज, नारायणा मेडिकल कॉलेज, सूर्या हॉस्पिटल, डॉ० ब्रजेश कुमार सिंह, डॉ० रंजेश कुमार सिंह, डॉ० आई.डी. सिंह एवं डॉ० जयंत आशीष से आवेदन प्राप्त हुए हैं। निर्धारित मानको के आधार पर इस संबंध में उन्हें कोरोना संक्रमण की जाँच एवं मरीजों के ईलाज हेतु अनुमति प्रदान की जाएगी।साथ हीं जिलाधिकारी ने ग्रामीण क्षेत्र में प्रत्येक परिवार को निःशुल्क 6-6 मास्क उपलब्ध कराने के सरकार के निर्देश के आलोक में उप विकास आयुक्त, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, डीपीएम जीविका, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र, खादी ग्राम उद्योग के प्रतिनिधि की उपस्थिति में विडीओ कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं बीपीएम जीविका के साथ बैठक की। सरकार से प्राप्त निर्देश के आलोक में जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिये गये कि जीविका, खादी ग्राम उद्योग एवं जिला औद्योगिक नवप्रर्वतन योजना के तहत कलस्टर द्वारा मास्क तैयार करायी जाय। मास्क तैयार करने का काम अविलंब शुरू करने के निर्देष दिये गये। 15वीं वित्त आयोग के अन्टाइड निधि की राशि से वितरण किये जानेवाली मास्क के व्यय का भुगतान किया जाएगा। मास्क का वितरण पंचायत सचिव एवं वार्ड सचिव के माध्यम से कराने के निर्देश दिये गये। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों एवं जीविका डीपीएम को त्वरित रूप में कारवाई करते हुए इसे सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये गये। उप विकास आयुक्त को मास्क वितरण कार्य का नियमित अनुश्रवण करते हुए ससमय वितरण कराने का निर्देश दिया गया।    वहीं जिलाधिकारी ने विडीयो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अंचलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अन्य प्रशासनिक पदाधिकारियों से कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के संदर्भ में लगाये गये प्रतिबंधों के अनुपालन की समीक्षा की गई। उन्होंने सभी को नियमित रूप से क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर सरकार एवं जिला प्रशासन द्वारा निर्गत आदेशो का अक्षरश: अनुपालन सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया।