शिक्षक,शिक्षा विभाग के पदाधिकारी एवं कर्मियों का होगा टीकाकरण : सिविल सर्जन

1206

विशेष सत्र आयोजित कर किया जाएगा टीकाकरण
जिला शिक्षा पदाधिकारी इसके नोडल होंगे
आवश्यक है 45 या इससे अधिक आयुवर्ग का टीकाकरण

सहरसा: जिले के सभी सरकारी, निजी विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों एवं अन्य पदाधिकारियों सहित शिक्षा विभाग के कर्मियों जिनकी आयु 45 वर्ष या इससे अधिक है, उन सभी का तथा उनके परिवार के अन्य सदस्य जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक की है, को कोविड- 19 का टीकाकरण कराया जाना है। साथ ही विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों के वैसे अभिभावक भी जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक की है को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित कर कोविड- 19 का टीका दिलवाना है।

विशेष सत्र आयोजित कर किया जाएगा टीकाकरण-
सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने बातया इसके लिए प्रखण्ड एवं जिला स्तर पर शिक्षा विभाग के पदाधिकारी एवं कमिर्यों से समन्वय स्थापित कर सभी योग्य लाभुकों को कोविड- 19 टीकाकरण के लिए विशेष सत्र आयोजित कराने की व्यवस्था की जानी है। जिसके आयोजन की जवाबदेही सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी एवं जिला कायर्क्रम प्रबंधक की होगी।

जिला शिक्षा पदाधिकारी इसके नोडल होंगे-
पहली अप्रैल से प्रारम्भ हो रहे 45 या 45 वर्ष ये अधिक आयुवर्ग के लाभार्थियों के कोविड- 19 टीकाकरण के लिए जिला पदाधिकारी के नेतृत्व में जिला स्तर पर समन्वय बैठक का आयोजन किया जाएगा। जिसमें शिक्षा विभाग एवं नगर परिषद् सहरसा के पदाधिकारीगण सहित जनप्रतिनिधि, जीविका के पदाधिकारी, पंचायतीराज के पदाधिकारी एवं चयनित प्रतिनिधिगण भाग लेंगे। जिला स्तर पर कोविड- 19 टीकाकरण के लिए शिक्षा विभाग की तरफ से जिला शिक्षा पदाधिकारी इसके नोडल होंगे। ऐसी स्थिति में एक साथ अत्यधिक संख्या में लाभुकों के आने से उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर आवश्यक प्रक्रिया अपनायी जाएगी।

आवश्यक है 45 या इससे अधिक आयुवर्ग का टीकाकरण
सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने कहा संभावित कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए आवश्यक है 45 या इससे अधिक आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण क्योंकि ऐसा देखा जा रहा है कि इस आयुवर्ग के अधिक व्यक्ति कोविड- 19 से संक्रमित हो रहे हैं। इसलिए आवश्यक है इस आयुवर्ग के लोगों का शतप्रतिशत टीकाकरण।