45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन शुरू

232

दूसरे डोज के लिए मिलेगा 8 सप्ताह का समय

■टीकाकरण स्थल पर करा सकते हैं अपना पंजीकरण
■पहले दिन काफी संख्या में पहुंचे लोग, कोरोना से बचाव को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवाई
■कोविड-19 के नियमों का पालन करते रहें

सहरसा: कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में कोविड-19 टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। यहां सरकारी व निजी स्वास्थ्य, आईसीडीएस कर्मी, प्रशासनिक कर्मचारियों के साथ ही 60 वर्ष से अधिक एवं 45 से 59 वर्ष के गंभीर रोग ग्रसित व्यक्तियों को टीका लगाया जा रहा है | 45 से 59 वर्ष के गंभीर रोग ग्रसित व्यक्तियों को टीकाकरण के लिए अपने रोग से सम्बंधित प्रमाणपत्र दिखाया जाना जरूरी था लेकिन आज से जिले के सभी टीकाकरण स्थल पर 45 वर्ष या अधिक उम्र के सभी व्यक्ति कोविड-19 टीका लगा सकते हैं।

45 वर्ष या अधिक उम्र के सभी लोगों को लग रहा है टीका :
सिविल सर्जन डॉ. अवधेश कुमार ने बताया आज से सभी 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 टीका लग रहा है । उम्र के सत्यापन के लिए लोगों को टीकाकरण स्थल पर अपने आधार कार्ड के साथ उपलब्ध होना आवश्यक है। टीकाकरण से किसी उम्र के किसी भी व्यक्ति को कोई समस्या नहीं होती है। टीकाकरण स्थल पर लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी व्यवस्था उपलब्ध है। टीकाकरण के पश्चात लोगों को 30 मिनट तक टीकाकरण केंद्र पर ही उपस्थित रहना है| जिससे किसी प्रकार की समस्या होने पर उसकी जांच करते हुए जरूरी व्यवस्था उपलब्ध कराई जा सके। हालांकि अभी तक टीकाकरण से किसी भी व्यक्ति को किसी तरह की समस्या नहीं पाई गई है। इसलिए संक्रमण से बचने के लिए जिले के सभी 45 से अधिक उम्र के लोगों को टीका जरूर लगवाना चाहिए।

दूसरे डोज के लिए मिलेगा 8 सप्ताह का समय :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद ने बताया कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए लगाए जा रहे टीका का दो डोज लेना सभी के लिए जरूरी है। पूर्व में पहला डोज लेने के 4 सप्ताह यानी 28 दिन बाद लोगों को दूसरा डोज लगाया जाता था लेकिन अब लोगों को दूसरे डोज लेने के लिए 8 सप्ताह यानी 56 दिन का समय दिया जाएगा। इतने समय बाद तक कोई भी व्यक्ति अपने नजदीकी टीकाकरण स्थल पर टीका लगवा सकते हैं।

टीकाकरण स्थल पर करा सकते हैं अपना पंजीकरण :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद ने बताया कोविड-19 टीका का लाभ उठाने के लिए लोगों को टीकाकरण के पूर्व अपना पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। पंजीकरण की सुविधा सभी टीकाकरण स्थल पर उपलब्ध है। पंजीकरण के लिए लोगों को आधार कार्ड एवं मोबाइल नंबर देना होता है। पंजीकरण होने के बाद ही लोग टीकाकरण का लाभ उठा सकते हैं।

टीकाकरण के बाद भी कोविड- कोविड-19 के नियमों का पालन जरूरी:
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद ने बताया कोविड- 19 का टीका लेने के बाद भी नियमों का पालन करना जरूरी है। कोविड- 19 के वायरस अपनी क्षमताओं का विकास करने में सक्षम हैं इसलिए आगे आपकी प्रतिरोधक क्षमता के स्तर के अनुरूप वायरस भी अपनी क्षमता को बढ़ाते हुए आपको संक्रमित कर सकता है। इसलिए आवश्यक है कि कोविड- 19 का टीका लेने के बावजूद कोविड- 19 के नियमों का पालन करते रहें।

मास्क को अनिवार्य समझें:
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद ने बताया जब भी बाहर निकलें मास्क अवश्य पहनें। मास्क अब हर किसी के पास है| फिर भी देखा जाता है कि अनजाने में ही सही लेकिन मास्क पहने नहीं पाये जाते हैं| जो आपको संक्रमित होने से बचा सकता है। इसलिए आवश्यक है कि अपनी सुरक्षा के लिए मास्क अनिवार्य रूप से पहनें।

सामाजिक दूरी बेहद जरूरी :
सामाजिक दूरी की महत्ता अब बहुत सारे लोग समझने लगे हैं, बाजारों में भी लोग सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए पाये जाते हैं । लेकिन संयमित नहीं रहने के कारण हमेशा सामाजिक दूरी बनाये रखना संभव नहीं हो पा रहा है। थोड़ा संयम रखें, सामाजिक दूरी अपने आप बनी रहेगी। ऐसे में याद रखें कि आप संक्रमण फैलाने वाले वायरस के पास जा रहे हैं।

हाथों का ख्याल रखें :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद ने बताया कि बताया कोविड- 19 के वायरस किसी भी सतह पर पाये जा सकते हैं। जिसे छूने मात्र से आप कोविड- 19 से संक्रमित हो सकते हैं। हाथ हमारे शरीर का सबसे अधिक क्रियाशील अंग है। इसलिए इसका खास ख्याल रखें। किसी सतह को छूने से बचें और इसे बार-बार सैनिटाइज करते रहें।
टीकाकरण स्थल पर सिविल सर्जन डॉ . अवधेश कुमार, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. कुमार विवेकानंद, जिला अनुश्रवण मूल्यांकन पदाधिकारी कंचन कुमारी और सहयोगी संस्था यूएनडीपी के मोहम्मद मुमताज खालिद उपस्थित थे।