संसद में उठा NH 107 निर्माण का मामला

1977

राजमार्ग मंत्री से डीपीआर में सुधार की मांग

सहरसा : संसद में एनएच 107 निर्माण का मामला स्थानीय सांसद दिनेश चंद्र यादव ने शून्य काल मे शुक्रवार को उठाया ।इस बार मामला एनएच 107 की डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के निर्माण का है। मधेपुरा के सांसद ने सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री से इस दिशा में पहल की मांग की है।

मधेपुरा सांसद श्री यादव ने कहा कि महेशखूंट-सिमरी बख्तियारपुर-सहरसा-मधेपुरा-पूर्णिया 177 किमी का निर्माण ईपीसी मोड में हो रहा है। जब एनएचआइ ने इसका निर्माण शुरू किया तो डीपीआर में कई प्रकार की त्रुटियां सामने आईं। पूर्व में आरसीडी का पथ पीडब्ल्यूडी के मानक के अनुसार बना था। इसमें नीचे ईंट सोलिग है, लेकिन वर्तमान डीपीआर में उस सड़क को पूरी तरह से नहीं उखाड़कर इसके ऊपरी सतह में एक-दो लेयर में मेटल देकर उसे निर्माण कराने की योजना है। सांसद ने कहा कि यदि इस डीपीआर पर सड़क निर्माण होता है तो सड़क जल्द ही टूट जाएगी। स्थानीय समीक्षा बैठक में एनएचआइ के पदाधिकारी ने बताया कि चेंज आफ स्कोप का प्रस्ताव छह महीने से मुख्यालय में लंबित है। फिलहाल यह सड़क जर्जर है और मधेपुरा-सहरसा सड़क की स्थिति चलने लायक नहीं है। समय रहते यदि इसकी मरम्मत नहीं हुई तो बरसात के दिनों में आवागमन पूरी तरह ठप हो जाएगा। निर्माणाधीन पथ के दोनों तरफ बड़े-बड़े गड्ढे खोद दिए गये हैं। लेकिन, उसकी चेतावनी के लिए कोई फ्लैग नहीं लगाया जा सका है। इससे दुर्घटना होती रहती है। इस पथ में बिजली के खंभे व छोटे-छोटे पेड़ भी हटाने की मंजूरी मुख्यालय नहीं दे रहा है। उन्होंने सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री से डीपीआर में सुधार, पथ के दोनों तरफ चेतावनी फ्लैग, निर्माणाधीन पथ पर सुबह-शाम पानी छिड़काव आदि का आग्रह किया है।