11 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का डीएम ने किया शुभारंभ

840
ग्यारह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजन
सहरसा : सरकार की मंशा है कि जितने भी दक्ष व्यक्ति हैं उनके दक्षता के अनुरूप उन्हें प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराया जाय। आप वर्षो से दक्षता के साथ कार्य रहे हैं लेकिन दक्ष होने के बाद भी बाहर कहीं जाने पर वैसा अवसर प्राप्त नहीं हो पाता है। आपको व्यवहारिक अनुभव है लेकिन सैद्धांतिक अनुभव भी जरूरी है। आपके कौशल के अनुसार प्रशिक्षण देकर दक्षता प्रमाण-पत्र उपलब्ध करायी जाएगी ताकि आप कहीं भी जाएंगे तो इसका लाभ आपको प्राप्त होगा। आज नवनिर्मित औद्योगिक  प्रशिक्षण संस्थान में हर-धर-नल का जल निश्चय योजना के अंतर्गत लगाये गये मोटर, नल, पाईप, बिजली उपकरणों इत्यादि के सफल संचालन एवं रख-रखाव हेतु बिहार कौशल विकास मिशन एवं प्रांजल के बीच समझौता तत्वावधान के बीच ग्यारह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए उपस्थित प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए जिला पदाधिकारी कौशल कुमार ने कहा ।
डीएम ने कहा कि सहरसा जिला में लगभग 2300 योजनाएं हर घर नल का जल सात निश्चय के अंतर्गत ली गई है। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक हर घर नल का जल योजना के लिए एक आपरेटर रखने का प्रावधान है। इस योजना में काफी बड़ी राशि सनिहित है। यदि मशीनों आदि का संचालन सही से नहीं होगा तो राशि का सदुपयोग नहीं होने के साथ-साथ आमजन को इस योजना का लाभ नहीं मिल पाएगा। यह जिला आयरन प्रभावित क्षेत्र है। हर योजनाओं में आयरन आपरेटेड प्लांट लगाये गये हैं, प्लांट का संचालन सही प्रकार से होने पर हीं आयरन मुक्त जल आमजन को प्राप्त हो सकेगा। उन्होंने कहा कि सरकार की सात निष्चय भाग-2 के अंतर्गत यह प्रषिक्षण कार्यक्रम आरंभ हो रहा है। नवनिर्मित औद्योगिक प्रषिक्षण संस्थान में यह पहला प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं।   हर घर नल का जल निष्चय योजना के अंतर्गत लगाये गये मोटर, नल, पाईप, बिजली उपकरणों इत्यादि के सफल संचालन एवं रख-रखाव हेतु बिहार कौषल विकास मिषन एवं प्रांजल के बीच समझौता तत्वावधान के बीच ग्यारह दिवसीय प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजन किया गया।
 इस प्रषिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग के अंतर्गत कार्यरत पंप आपरेटरों को प्रषिक्षित करने का प्रावधान है। प्रषिक्षण का उद्देष्य सात निष्चय के अंतर्गत हर घर नल का जल मिषन को सुचारू रूप से निरंतर चलाने एवं हर घर तक गुणवत्तापूर्ण पेयजल पहुँचाने का लक्ष्य है इसके अंतर्गत चरणबद्ध रूप में इस जिला के हजारों प्रषिक्षु को कुषल योग्य बनाने का लक्ष्य पुरा किया जाएगा एवं उन्हेें दक्षता प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराये जाएंगे। जिलाधिकारी ने निर्देष दिया कि जहां भी हर घर नल का जल योजना आरंभ हो चुकी है वहां के आॅपरेटर को प्रषिक्षण उपलब्ध कराएं यदि पोषक क्षेत्र में दक्ष महिला आॅपरेटर भी हैं तो उन्हें भी प्रषिक्षण देकर उनकी भी सेवा ली जाय।       जिलाधिकारी ने नवनिर्मित औद्योगिक प्रषिक्षण संस्थान का अवलोकन किया। प्रषिक्षण के लिए बने वर्कषाॅप को देखा। किस-किस स्कील में यहां प्रषिक्षण दी जाती है की जानकारी ली। प्रषिक्षण के उपरांत प्लेसमेंट की स्थिति के संबंध में भी पूछा। इस अवसर पर आई.टी.आई. के प्राचार्य विमल कुमार, जिला नियोजन पदाधिकारी नूर हसन एवं अन्य उपस्थित थे।