दियारा में डीएम के पहल पर स्वास्थ्य शिविर-सह-मेगा कैम्प का आयोजन

970
वंचित नागरिकों को मिला नागरिक सेवाओं का लाभ
सहरसा : जिलाधिकारी कौशल कुमार की पहल एवं प्रयासों से स्वास्थ्य सुविधाओं एवं सेवाओं तथा नागरिक सेवाओं का समुचित लाभ कोसी तटबंध के अंतर्गत वंचित नागरिकों को उपलब्ध कराने की दिशा में सिमरी बख्तियारपुर के कठडूमर मध्य विद्यालय के प्रांगण में स्वास्थ्य शिविर -सह- मेगा कैम्प का आज आयोजन हुआ।
बताते चले कि जिलाधिकारी के प्रयासों से कोसी तटबंध के अंतर्गत क्षेत्रों में रह रहे लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता के मद्देनजर विगत दिनों बेलवाड़ा में अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को क्रियाशील करते हुए संस्थागत प्रसव की सुविधा उपलब्ध करायी गयी। इसी क्रम में कठडूमर एवं आस-पास के पंचायतों घोघसम, धनपूरा आदि पंचायत के काफी बड़ी संख्या में लोगों ने स्वास्थ्य शिविर -सह-मेगा कैम्प के माध्यम से उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं एवं सेवाओं का लाभ उठाया।स्वास्थ्य जाँच एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ भू-लगान एवं दाखिल खारीज संबंधी, सामाजिक सुरक्षा के अंतर्गत पेंशन संबंधी, मनरेगा से संबंधित योजनाओं, विद्युत संबंधी, सहित आर.टी.पी.एस. के तहत उपलब्ध कराये जा रहे सेवाओं का लाभ दिया गया।   
जिलाधिकारी ने इस अवसर पर कहा कि तटबंध के अंदर कठडूमर में आज स्वास्थ्य शिविर-सह- मेगा कैम्प का आयोजन किया गया है। स्वास्थ्य शिविर के अंतर्गत ओ.पी.डी., नेत्र जाँच, शिशु रोग जाँच, दवा वितरण, विकलांगता जाँच, सहित आठ का काउंटर लगाये गये है। इसके अतिरिक्त राशन कार्ड, पेंशन, बिजली, दाखिल-खारीज, मनरेगा सहित कई जन कल्याणकारी एवं नागरिक सेवाएं यहां के निवासियों को उपलब्ध करायी जा रही है। आज के स्वास्थ्य -सह- मेगा कैम्प शीविर के माध्यम से इन सुविधाओं से वंचित लोगों को काफी लाभ मिला है। जिला प्रसाशन का उद्देष्य है कि तटबंध के अंदर जितने भी पंचायत हैं जो सुदुर हैं एवं जहां आवागमन की कठिनाई है वहां स्वास्थ्य शिविर -सह- मेगा कैम्प के आयोजन के माध्यम से उस क्षेत्र के नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधा एवं सेवाएं मुहैया करायी जाय, यह निरंतर जारी रहेगा। इसी क्रम में आगामी 10 मार्च को तटबंध के अंतर्गत चिड़ैया पंचायत में मेगा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों की चिर परिचित मांग थी कि कठडूमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को आरंभ कराया जाय ताकि संस्थागत प्रसव सहित अन्य स्वास्थ्य सुविधाएं यहां के लोगों को उपलब्ध हो सके। कठडूमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को सुदृढ़ किया जाएगा। उपलब्ध निधि से पन्द्रह लाख रूपये की राषि से उक्त अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन का जीर्णोद्धार कराते हुए माह मई 2021 तक स्वास्थ्य सुविधाएं यहां उपलब्ध करायी जाएगी।    स्वास्थ्य शिविर के माध्यम से 672 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया जिसमें से 14 मोतियाबिंद के मरीजों को आपरेशन हेतु सदर अस्पताल रेफर किया गया। स्वास्थ्य जाँच के उपरांत निःषूल्क दवा भी वितरण की गई। वहीं 22 लोगों की विकलांगता की जाँच, 37 का ए.एन.सी. जाँच, 29 व्यक्तियों को परिवार नियोजन का परामर्ष, 121 को गर्भनिरोधक गोलियों का वितरण, 23 गर्भवती महिलाओं को टैटनश की सूई दी गई। ओ.पी.डी. के माध्यम से 319 पुरूषों, 72 बच्चों तथा 116 महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया वहीं 34 व्यक्तियों का ओर्थो ओ.पी.डी. अंदर स्वास्थ्य जाँच की गई।
कठडूमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के वर्तमान भवन का जिलाधिकारी ने निरीक्षण किया। उपस्थित ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि विगत कई वर्षाें से ए.पी.एच.सी. बंद पड़ा है तथा यहां के निवासियों को ईलाज के लिए नदी पार कर काफी कठिनाई उठाते हुए सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल जाना पड़ता है। जिलाधिकारी ने कहा कि भवन के जीर्णोद्धार के लिए राषि उपलब्ध करायी जा रही है जिसे मई 2021 तक दुरूस्त कराकर इस स्वास्थ्य केन्द्र को आरंभ किया जाएगा और प्रयास रहेगा कि अधिक से अधिक स्वास्थ्य सुविधा यहां के निवासियों को मिले। उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह को भवन के निर्माण में गुणवत्ता सुनिष्चित कराने हेतु अनुश्रवण करने का निर्देश दिया साथ हीं मनरेगा के तहत भवन के सामने पेभर ब्लाॅक लगाने का निर्देश दिया गया।       मेगा कैम्प के माध्यम से भू-लगान रसीद की शिकायत एवं समस्याओं के निराकरण के संदर्भ में 03 काउन्टर लगाये गये थे। बिजली बिल से संबंधित जानकारी, विद्युत संबंधी समस्याओं एवं नये विद्युत कनेक्षन हेतु 01 काउन्टर लगाये गये। मनरेगा का 01 काउन्टर बनाया गया जिसके माध्यम से जाॅब कार्ड, पषुषेड, वृक्षारोपण, सोख्ता, वर्मीकम्पोस्ट, निजी पोखर आदि योजना के लाभ उपलब्ध कराने हेतु आवेदन प्राप्त किये गये। नये राषन कार्ड निर्गमन, राषन कार्ड में संषोधन एवं ई-पोष के माध्यम से आधार सीडिंग आदि सुविधाओं के लिए 02 काउन्टर बनाये गये। इसके अलावा सामाजिक सुरक्षा पेंषन से संबंधित 01 काउन्टर भी लगाये गये। षिविर के माध्यम से राषन कार्ड संबंधी-155, पेंषन संबंधी-68, मनरेगा जाॅब कार्ड संबंधी-50, विद्युत संबंधी-32, भू-लगान रसीद से संबंधी-110 एवं दाखिल-खारीज से संबंधित-11 आवेदनों पर कारवाई की गई। षिविर में 14 दिव्यांगजनों से तिपहिया साईकिल के लिए आवेदन प्राप्त हुए हैं जिसपर जिलाधिकारी द्वारा कैम्प के माध्यम से उक्त आवेदकों को तिपहिया साईकिल उपलब्ध कराने का निर्देष सहायक निदेषक सामाजिक सुरक्षा को दिय गया ।
वहीं शिविर में 04 दिव्यांगजनों को जिलाधिकारी 
कौशल कुमार एवं पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह द्वारा तिपहिया साईकिल दिया गया। जिलाधिकारी को अपने बीच पाकर काफी संख्या में लोगों ने जिलाधिकारी को अपनी समस्याओं के निराकरण हेतु परिवाद पत्र दिया। जिलाधिकारी ने सभी की समस्याओं को ध्यान से सुना और समस्याओं के निराकरण की दिषा में संबंधित पदाधिकारी को आवष्यक निर्देष दिया। मुख्य रूप से आवास योजना, पेंषन योजना, भूमि संबंधी, बासगीत पर्चा, शौचालय, भूमि संबंधी समस्याओं हेतु जिलाधिकारी को परिवाद पत्र दिया गया। वहीं ग्रामीणों द्वारा आवागमन की सुविधा हेतु पुल एवं सड़क निर्माण के लिए अनुरोध किया। मौके पर उपस्थित कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य प्रमंडल, सिमरी बख्तियारपुर से तटबंध के अंदर प्रस्तावित 04 सड़कों के निर्माण काम के संबंध में समीक्षा की एवं यथाषीघ्र निर्माण हेतु निर्देष दिये।
पुलिस अधीक्षक लिपि सिहं, उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह, सिविल सर्जन डा॰ अवधेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सिमरी बख्तियारपुर वीरेन्द्र कुमार,डा. मधु किशोर, उप निदेशक-सह-जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी दिलीप कुमार देव,सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा,प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार,डीपीएम विनय रंजन,सहयोगी संस्था केयर इंडिया के डीटीएल रोहित रैना,हेल्थ मैनेजर, महबूब आलम,केयर इंडिया ब्लॉक मैनेजर अखिलेश कुमार,केयर इंडिया के परिवार नियोजन समन्वयक सरवन कुमार ,बीसीएम सतीश शर्मा, एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी सहित पंचायत के प्रतिनिधि भी मौजूद रहे |