50 वर्ष से अधिक आयु वालों को लगेगा कोविड 19 का टीका : सिविल सर्जन

840

कोविड -19 टीकाकरण ‘संचालन रणनीती’ के तहत अगले प्राथमिकता समूह के अन्तर्गत बुजुर्ग आबादी का होगा टीकाकरण

50 वर्ष से अधिक आयु वाले लोग अपनी इच्छा से मार्च माह में टीकाकरण अभियान का हिस्सा बन सकते हैं

सहरसा: कोरोना महामारी के खिलाफ चल रहा टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण मार्च से शुरू होगा । टीकाकरण अभियान में मार्च के पहले या दूसरे सप्ताह में स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्करों के बाद अब आम लोगों का टीकाकरण भी शुरू होगा। उम्मीद है कि मार्च के पहले सप्ताह या दूसरे सप्ताह से जिले भर में 50 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों को टीका लगेगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी कर ली है। जल्द ही वैक्सीन सभी केंद्रों में पहुंचाई जाएगी। जिले में 50 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति के डाटाबेस की तैयारी की कवायद भी शुरू हो चुकी हैं। जिले के सिविल सर्जन डाॅ अवधेश कुमार ने बताया कि 50 वर्ष से अधिक आयु वाले लोग अपनी इच्छा से मार्च माह में टीकाकरण अभियान का हिस्सा बन सकते हैं। सिविल सर्जन ने बताया कि राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक द्वारा सभी जिले को बुजुर्ग आबादी एवम् ऐसे लोग जो कमोर्बिडिटीज से पीड़ित हैं को अगली प्राथमिकता समूह में टीकाकरण करने का निर्देश दिया गया है।

6 फरवरी से फ्रंट लाइन वर्कर्स का किया जा रहा है टीकाकरणविदित हो कि जिले में 6 फरवरी से फ्रंट लाइन वर्कर्स एवम् पदाधिकारियों का टीकाकरण किया जा रहा है। कोविड -19 टीकाकरण ‘संचालन रणनीती’ के तहत अगले प्राथमिकता समूह के अन्तर्गत बुजुर्ग आबादी एवम् ऐसे लोग जो कमोर्बिडिटीज से पीड़ित है के टीकाकरण की तैयारी 1 मार्च तक करने का निर्देश राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा दिया गया है। राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा यह भी निर्देश दिया गया है कि बुजुर्ग आबादी के टीकाकरण के दौरान योग्य लाभार्थियों के अलावा अन्य किसी का भी टीकाकरण नहीं किया जाएगा। कोरोना महामारी के खिलाफ चल रहा टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण मार्च से शुरू होगा और इसी चरण में 50 साल से अधिक उम्र के जरूरमंद लोगों को कोरोना का टीका दिया जाएगा।दूसरा डोज देने का अभियान तेज होगा

जिले के सिविल सर्जन डाॅ अवधेश कुमार बताया कि कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत जिन्हें टीका का पहला डोज मिल चुका है, उन्हें दूसरा डोज दिए जाने की प्रक्रिया तेज की जाएगी। पहले व दूसरे डोज का टीका दिए जाने में कोई परेशानी न हो, इसलिए अलग-अलग अभियानों का संचालन किया जाएगा। जिस व्यक्ति को जिस कंपनी का टीका दिया गया है, उसी कंपनी का टीका दिया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि पहला टीका प्राप्त करने वाले व्यक्ति को दूसरा टीका 28 वें दिन नहीं बल्कि उसके बाद दिया जाना है।