एसपी लिपी सिंह एक्शन में… असलहों सहित 5 अपराधी गिरफ्तार

982

पुलिस को मिली बड़ी सफलता

सहरसा : दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के ममेरे भाई राजकुमार सिंह और उनके स्टाफ को गोली मारकर जख्मी करने की घटना का पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उद्भेदन किया है।रविवार को पुलिस कप्तान लिपि सिंह ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि बीते 30 जनवरी को यामाहा शोरूम के मालिक राजकुमार सिंह और उनके सहयोगी आमिर हसन को बैजनाथपुर पुलिस शिविर क्षेत्र में गोली मारकर जख्मी कर दिया गया था. घटना के बाद पुलिस ने इसे गंभीरता से लेते हुए तत्काल छापामारी और वैज्ञानिक अनुसंधान शुरू कर दिया था. पुलिस को पहले दिन से ही पक्की सूचना मिल चुकी थी कि जमीन विवाद को लेकर घटना को अंजाम दिया गया है. हालांकि घायलों द्वारा अज्ञात अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना के बाद वैज्ञानिक अनुसंधान प्रारंभ किया गया।सीसीटीवी फुटेज खंगालने और दर्जन भर लोगों के मोबाइल सर्विलांस के बाद पुलिस को सूचना मिली थी कि शमशेर एवं नीरज कुमार उस दिन घटनास्थल पर मौजूद थे. इसके बाद पुलिस अनुसंधान और आगे बढ़ाया गया. मोहम्मद शमशेर, मोहम्मद अफरोज, नीरज, विक्की चौबे और मनीष कुमार को गिरफ्तार किया गया है. इनके पास से 9 एमएम की एक पिस्टल, दो मैगजीन चार गोलियां, एक चाकू, 6 मोबाइल फोन बरामद किया गया. घटना का मुख्य मास्टरमाइंड विक्की चौबे है तथा उसी ने अपराधियों को एकत्र किया था.

पांच लाख रुपए में हत्या की सुपारी दी गई थी

अपराधियों की योजना चुन्नू सिंह की हत्या करने की थी. विक्की चौबे ने ही यह कह कर अपराधियों को जमा किया था कि यामाहा शोरूम सहरसा के मालिक अनुज सिंह उर्फ चुन्नू सिंह ने विशाल सिंह का जमीन कब्जा कर लिया है और अनुज सिंह उर्फ चुन्नू सिंह की हत्या कर दी जाए तो जमीन पर कब्जा हो जाएगा. इसके अलावा उसने पैसों का भी लोभ दिया गया. इसके बाद सभी लोग चुन्नू सिंह के यामाहा शोरूम के गेट के पास एकत्र हुए थे और योजना चुन्नू सिंह को मारने की थी लेकिन उस दिन वह बाइक पर नहीं था. इसी बीच बाइक पर सवार राजकुमार सिंह का यह लोग पीछा करने लगे और मधेपुरा जाने के दौरान उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गई. राजकुमार सिंह के साथ-साथ उनके सहयोगी अमीर हसन को भी गोली लगी थी. विक्की चौबे, शमशेर, अफरोज का आपराधिक इतिहास भी रहा है.

इस मौके पर सदर एसडीपीओ संतोष कुमार,सदर थानाध्यक्ष राजमणि,बैजनाथपुर ओपी प्रभारी संजीव कुमार सहित अन्य पुलिस कर्मी मौजूद थे ।