बेटी सुभाषिनी के लिए अस्‍पताल से शरद यादव ने की जनता से अपील,कहा…बेटी को दें आशीर्वाद

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
309

बिहारीगंज से लड़ रही चुनाव

डेस्क : देश के कद्दावर नेता शरद यादव ने अपनी बेटी सुभाषिनी के लिए बिहारगंज की जनता से अपील की है कि वे उन्‍हें आशीर्वाद दें। यादव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि महागठबंधन की उम्मीदवार सुभाषिनी अब सिर्फ मेरी बेटी नहीं है, बल्कि आप सभी की बेटी है जो बिहारीगंज के विकास के लिए सदैव समर्पित रहेगी। सुभाषिनी को अपने आशीर्वाद के तौर पर कांग्रेस के चुनाव चिन्ह के सामने वाला बटन दबा कर वोट करें और विजयी बनाए और आपकी सेवा करने का मौका दें। मेरे जीवन में सब कुछ मैंने आप लोगों के लिए समर्पित किया है और अब उम्र के इस पड़ाव पर आपकी सेवा के लिए बेटी सुभाषिनी को सौंप रहा हूँ।

शरद यादव ने कहा  की जैसा कि आप सभी जानते हैं कि मैं पिछले कुछ महीनों से अस्वस्थ चल रहा हूं और दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हूं। इस पत्र को लिखते समय मैं भावनात्मक भी हूँ और हृदय की गहराइयों से खुश भी, ये बात मैं आप सभी से मिलकर कहना चाहता था लेकिन स्वस्थ होने के चलते पत्र के माध्यम से अपनी बात रख रहा हूँ।

उन्‍होंने कहा कि मैंने अपने जीवन का हर पल मधेपुरा के लोगों के लिए समर्पित किया है और आपके सुख दुख में साथ खड़ा रहा हूँ और मधेपुरा के विकास की सदैव लड़ाई लड़ी है। बिहारीगंज मधेपुरा के विधानसभा क्षेत्रों में से एक है। बिहारीगंज क्षेत्र में भी कई काम किए गए हैं। इतने काम किए हैं जिनकी व्याख्या करना यहां पर मुश्किल है। पिछले तीन दशकों से जब मैं वर्ष 1991 में मधेपुरा से संसद सदस्य चुना गया तब से आज तक यहां के लोगों की सेवा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है जिसमें बिहारीगंज भी शामिल है।

यादव ने आगे कहा कि मुझे खुशी है कि मेरी बेटी सुभाषिनी ने इस बार बिहारीगंज से विधानसभा चुनाव कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर महागठबंधन के उम्मीदवार के तौर पर लड़ने का फैसला किया है। वह शिक्षित है और लोगों की सेवा करने का इरादा रखती है। उन्होंने मेरे संसद चुनाव में प्रचार के दौरान हिस्सा लिया था और लोगों की समस्याओं को जानने के लिए समय-समय पर मधेपुरा का दौरा भी किया और सेवा करती रही हैं। मुझे भरोसा है कि वह व्यक्तिगत रूप से बिहारीगंज के जनमानस के संपर्क में रहकर कुशल तरीके से लोगों की सेवा करना जारी रखेंगी।

पिछड़े, दलित, महादलित, अनुसूचित जाति जनजाति और गरीब लोगो के प्रति अपने दिल में विशेष सम्मान रखती हैं और इसलिए मैं आपको विश्वास दिला सकता हूं कि वह किसी भी जाति व वर्ग के लोगो के साथ भेदभाव नहीं रखेगी।