अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के 72 वां स्थापना दिवस पर संगोष्ठी आयोजित,  स्वामी विवेकानंद के चित्र पर पुष्प अर्पण करते कार्यकर्ता 

दिनेश सिंह
dineshsinghsahara6@gmail.com
77







मधुबनी अंधराठाढ़ी से मोo आलम अंसारी की रिपोर्ट

अंधराठाढ़ी। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के 72वें स्थापना दिवस के अवसर पर नगर इकाई अंधराठाढ़ी के कार्यकर्ताओं के द्वारा शुक्रवार को एक संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत स्वामी विवेकानंद के चित्र पर पुष्प अर्पण से की गई। मुख्य वक्ता आशुतोष मिश्र ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने सनातन धर्म का परचम पूरे विश्व में लहराया था। शिकागो धर्म सभा सम्मेलन में स्वामी जी ने कुछ ही समय में अन्य धर्मावलंबियों को यह मानने पर मजबूर कर दिया कि सनातन धर्म से अच्छा कोई धर्म नहीं है। उन्होंने बताया स्वामी जी के भाषण के पहले शब्द मेरे अमेरिकी भाइयों एवं बहनों ने  ही पूरे सभा का मन मोहित कर लिया। आशुतोष ने कहा कि आज के युवाओं को स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को मानना चाहिए और उनके पद चिन्हों पर चलकर अपने दिल में राष्ट्र प्रेम की भावना  को जागृत करना चाहिए। संगोष्ठी  कार्यक्रम में  सह छात्र प्रमुख मनीष झा,कोषाध्यक्ष नंदन कुमार, मिश्रा भास्कर मिश्रा, अतुल मिश्रा, विकास ठाकुर, राघव ठाकुर ,शिवम झा, रूपेश कुमार धीरज कुमार सहित दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे