मधुबनी – ( एलर्ट ) रेगिस्तानी टिड्डी दल का आक्रमण उतरी बिहार के जिलों के साथ-साथ मधुबनी में भी हो सकता है।

रेगिस्तानी टिड्डी दल राजस्थान, मध्यप्रदेश एवं उतर प्रदेश में फसलों पर आक्रमण करने के पश्चात बिहार राज्य के सीमावर्ती जिलों रोहतास, बक्सर, सिवान, गोपालगंज, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण जिलों में इनके प्रकोप देखने को मिल रहा है। सम्भावना है कि रेगिस्तानी टिड्डी दल का आक्रमण उतरी बिहार के जिलों के साथ-साथ मधुबनी जिला में भी हो सकता है।
रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप को रोकने हेतु मधुबनी जिला में जिला स्तरीय टिड्डी दल की बैठक जिला पदाधिकारी, मधुबनी के अध्यक्षता की गई। जिसमें सभी संबंधित पदाधिकारियों एवं पंचायत स्तर के कर्मियों को आवश्यक तैयारी करने हेतु निदेश दिया गया है। साथ ही जिला, प्रखण्ड एवं पंचायत स्तर पर कन्ट्रोल रूम गठन किया गया है तथा ग्राम स्तर पर टिड्डी ग्राम रक्षादल का भी गठन किया गया है। रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप के रोक-थाम हेतु प्रखण्ड स्तर पर भी सभी सदस्यों के साथ बैठक की गई है।
जिला कृषि पदाधिकारी, मधुबनी एवं सहायक निदेशक, पौधा संरक्षण, मधुबनी के द्वारा लगातार रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप के रोक-थाम की समीक्षा जा रही है तथा प्रखण्ड/पंचायत स्तर गठित कन्ट्रोल रूम एवं ग्राम स्तर पर टिड्डी ग्राम रक्षादल के माध्यम से इस प्रकोप को रोकने हेतु प्रचार-प्रसार एवं आवश्यक सभी तैयारी करने का निदेश दिया गया है।
जिला कृषि पदाधिकारी, मधुबनी एवं सहायक निदेशक, पौधा संरक्षण, मधुबनी के द्वारा सभी किसान भाईयो से अनुरोध है कि जहाँ भी रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप देखा जाय तो अविलंव जिला , प्रखण्ड , एवं पंचायत स्तर पर गठित कन्ट्रोल रूम को सूचना देंगे , ताकि प्रकोप रोकने का अथक प्रयास किया जा सके। जिला स्तर पर गठित कन्ट्रोल रूम का सम्पर्क सूत्र-8825236867, 9471229027, 9430515128 है
रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप के रोकथाम हेतु
1. सभी संबंधित को सूचित किया जाता है कि रेगिस्तानी टिड्डी दल के प्रकोप के बचाव हेतु टीन का डब्बा, ढोल, नगारा, डी0जे0, थाली बजाने से भी उनके प्रकोप को कम किया जात सकता है।
2. निम्मनिखित अनुशंसित कीटनाशियों का छिड़काव रात्रि के 11ः00 बजे से सुबह सूर्योदय तक किया जा सकता
है।
क) लैम्बडासायहेलोथ्रीन 5ः ई0सी0 की 1.0 मि0ली0 मात्रा प्रति लीटर पानी में या
ख) क्लोरपाययरीफाॅस 20ः ई0सी0 की 2.5 से 3.0 मि0ली0 मात्रा प्रति लीटर पानी में या
ग) फिपरोनिल 5ः ई0सी0 की 1.0 मि0ली0 मात्रा प्रति लीटर पानी में या
. घ) डेल्टामेंथ्रीन 2.8ः ई0सी0 की 1.0 से 1.5 मि0ली0 मात्रा प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव किया जा
सकता है।
जिला कृषि पदाधिकारी नें कहा कि उपरोक्त कीटनाशक के छिड़काव हेतु जिला अग्निशामन, मधुबनी की गाड़ियों के माध्यम से छिड़काव किया जाना है, जिसके लिए गाड़ियाॅ तैयार किया गया है।