मधुबनी:- लॉकडाउन में काम मिलने से मजदूरों के चेहरे पर आयी मुस्कान

कोशी एक्सप्रेस: बी.चन्द्र की रिपोर्ट

मधुबनी: वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते लाॅकडाउन का सबसे ज्यादा असर देहाड़ी मजदूरों पर पड़ा है। उनका रोजगार पूरी तरह छिन चुका है। लेकिन मनरेगा ने मजदूरों के चेहरे पर एक बार फिर मुस्कान लौटाने का काम किया है। इससे प्रवासियों को भी मनरेगा के द्वारा काम दिया जा रहा है।

                         झंझारपुर प्रखंड के सिमरा पंचायत में मनरेगा से कार्य शुरू कराया गया है। ताकि लोगों को लाॅकडाउन के समय रोजगार मिल सकें। पंचायत के मझौरा मोहना गांव में नहर उड़ाही का कार्य कराया जा रहा है।

                         वर्तमान में पंडौल प्रखंड के बथने पंचायत में भी पोखर उड़ाही का कार्य किया जा रहा है। जहां महिला, पुरूष के साथ प्रवासी मजदूर भी मनरेगा में पोखर उड़ाही का कार्य कर रहे है। वत्र्तमान में जिला में 54822 मजदूरों को मनरेगा द्वारा रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। जिसके अंतर्गत अभी तक वर्ष 2020-21 में 861913 मानव दिवस का सृजन किया गया है।