डीएम ने दिया निदेश, प्रवासियों का प्रखंड स्तर पर होगा पंजीकरण, श्रेणी ‘क’ से आये प्रवासी प्रखंड स्तर पर होंगे क्वारंटाइन

कोशी एक्सप्रेस: बी.चन्द्र की रेिपोर्ट

                       मधुबनी: डाॅ निलेश रामचन्द्र देवरे, भा0प्र0से0, जिलाधिकारी, मधुबनी के द्वारा आपदा प्रबंधन विभाग, बिहार के प्रधान सचिव, द्वारा कोरोना संक्रमण (कोविड-19) के परिप्रेक्ष्य में लागू लाॅकडाउन के दौरान राज्य में आने वाले अन्य प्रवासी मजदूरों के लिए क्वारंटाइन सेंटर के संबंध में जारी गाईडलाइन के आलोक में मधुबनी जिला के सभी अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी एवं थानाध्यक्ष को अनुपालन हेतु निदेश दिया गया है।

                         इस दौरान जिलाधिकारी, मधुबनी के द्वारा सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को निदेश दिया गया कि वे श्रेणी ‘क’ के राज्यों/शहरों यथा-सूरत, अहमदाबाद, मुबंई, पुणे, दिल्ली, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुरूग्राम, नोएडा, कोलकाता एवं बैंगलोर के प्रवासियों को यथासंभव प्रखंड क्वारंटाइन सेंटर में ही रखने की व्यवस्था करें। यदि प्रखंड क्वारंटाइन सेंटर में जगह नहीं रहने पर उन्हें प्रखंड मुख्यालय से सटे पंचायत के क्वारंटाइन सेंटर पर रहने की व्यवस्था करें। साथ ही प्रखंड स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर पर सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन सख्ती से कराने का निदेश दिया गया। प्रखंड स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर पर 14 दिन पूर्ण होने के पश्चात उनके स्वास्थ्य जांच में यदि कोविड के लक्षण नहीं पाये जाते है, तो उनसे स्वघोषणा पत्र लेकर 7 दिनों तक होम क्वारंटाइन में भेजने की कार्रवाई करें।

समूह ‘क’ के अलावे अन्य राज्यों से आने वाले वैसे प्रवासी जिनमें कोविड-19 का लक्षण परिलक्षित नहीं होता है, उनसे भी स्वघोषणा पत्र लेकर होम क्वारंटाइन में भेजने का निदेश दिया गया।
जिलाधिकारी, मधुबनी के द्वारा अन्य राज्यों से आनेवाले सभी प्रवासियों का पंजीकरण प्रखंड स्तर पर ही अनिवार्य रूप से कराने का निदेश दिया गया। पंजीकरण के दौरान उनका बैंक खाता संख्या, आधार संख्या आदि की जानकारी उनसे ले ली जाय, ताकि उउन्हें प्रवासी निःष्क्रमण सहायता राशि दी जा सकें।

उन्होंने प्रखंडों के क्वारंटाइन सेंटरों पर प्रवासियों के पंजीकरण की गतिविधि धीमी हाने को लेकर नाराजगी व्यक्त की एवं इसमें तेजी लाने हेतु आवश्यक निदेश दिया गया।