मुख्यमंत्री द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया मधुबनी के क्वारंटाइन सेंटरों का अवलोकन

दिनेश सिंह
dineshsinghsahara6@gmail.com
350

कोशी एक्सप्रेस: बी.चन्द्र की रेिपोर्ट

मधुबनी: श्री नीतीश कुमार, माननीय मुख्यमंत्री, बिहार के द्वारा शुक्रवार को विडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के दो क्वारंटाइन सेंटरों का अवलोकन, निरीक्षण एवं रह रहे प्रवासियों के साथ संवाद किया गया।

                                 विस्वान के माध्यम से हो रहे विडियो काॅन्फ्रेंसिंग द्वारा माननीय मुख्यमंत्री, बिहार के द्वारा पोल स्टार स्कूल क्वारंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासी श्री प्रदीप कुमार यादव, पंचायत-सुंदरपुरभिट्ठी, प्रखंड-रहिका से क्वारंटाईन सेंटर पर मिल रही सुविधाओं के बारे में जानकारी ली गयी। साथ ही श्री प्रदीप कुमार से माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा पूछा गया कि आप कहां से आये है तथा वहां क्या करते थे?श्री यादव द्वारा बताया गया कि वह हैदराबाद से आया है तथा हैदराबाद के IBIS होटल में खाना बनाने का कार्य करता था। वह इंडियन एवं चाईनिज सभी प्रकार के व्यंजन यथा-इडली-डोसा, बिरयानी एवं अन्य फास्ट फूड बनाने में दक्ष है। श्री यादव द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को उसके हाथों के बने व्यंजनों को खाने हेतु मधुबनी आने का निमंत्रण दिया गया। माननीय मुख्यमंत्री द्वारा निमंत्रण को स्वीकार करते हुए इसकी संपुष्टि जिलाधिकारी से भी की गयी।
संवाद के क्रम में जिलाधिकारी द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को जिले में कार्यरत क्वारंटाइन सेंटरों एवं उनमें दी जा रही बुनियादी सुविधाओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि मधुबनी जिला में वत्र्तमान में 362 प्रखंड स्तरीय तथा 473 पंचायत स्तरीय कुल 835 क्वारंटाइन सेंटर कार्यरत है। जिसमें प्रखंड एवं पंचायत के क्वारंटाइन सेंटरों की कुल क्षमता 50176 है। वत्र्तमान में वहां पर 39707 लोग (प्रखंड/पंचायतों में) रह रहे है। 39707 लोगों में से 14723 रेड जोन एरिया से आनेवाले प्रवासी है।
जिलाधिकारी द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को संवाद के क्रम में यह भी बताया गया कि रहिका प्रखंड के पोल स्टार स्कूल क्वारंटाइन सेंटर की क्षमता 200 है। जिसमें वत्र्तमान में 50 लोग रह रहे है। इन पचास लोगों में 28 लोग मुंबई, 11 लोग दिल्ली(NCR), 1 कोलकाता से 10 अन्य राज्यों से आये प्रवासी है। इन प्रवासियों का स्कील मैंपिंग के आधार पर यह ज्ञात हुआ है कि इनमें दो ड्राईवर, पांच बैंग मिस्त्री, 4 राजमिस्त्री, 3 कुक, 4 दर्जी तथा 32 दैनिक मजदूर है। जिला प्रशासन द्वारा इन्हें रोजगार मुहैया कराने हेतु विकल्प पर विचार-विमर्श की जा रही है।
जिलाधिकारी, मधुबनी के द्वारा श्री प्रदीप कुमार यादव एवं उनके सहयोगियों को क्वारंटाइन सेंटर पर रह रहे अन्य प्रवासियों के लिए तथा स्वयं उनके लिए भी अपने हाथों से व्यंजन बनाकर खिलाने एवं भेजवाने का अनुरोध किया गया। साथ ही प्रखंड विकास पदाधिकारी, रहिका को उन्हें कच्ची सामग्री उपलब्ध कराने हेतु निदेश दिया।
माननीय मुख्यमंत्री, बिहार द्वारा जिला प्रशासन, मधुबनी द्वारा उक्त क्वारंटाइन सेंटर पर दी जा रही सुविधाओं पर प्रवासियों से संवाद के पश्चात संतोष व्यक्त किया गया।
तत्पश्चात माननीय मुख्यमंत्री द्वारा मधुबनी जिले के दूसरे क्वारंटाइन सेंटर कलुआही प्रखंड के उत्क्रमित उच्च विद्यालय, मलमल पर उपस्थित उप-विकास आयुक्त, मधुबनी, श्री अजय कुमार सिंह, एवं अनुमंडल पदाधिकारी, सदर मधुबनी, श्री सुनील कुमार सिंह के नेतृत्व में संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान उप-विकास आयुक्त द्वारा उक्त क्वारंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासियों के बारे में एवं उन्हें दी जा रही सुविधाओं से माननीय मुख्यमंत्री, बिहार को अवगत कराया गया।
उप-विकास आयुक्त, मधुबनी ने बताया कि उक्त क्वारंटाइन सेंटर की क्षमता 160 लोगों की है। जिसमें 155 लोग रह रहे है। 52 लोग मुंबई, 77 दिल्ली(एन0सी0आर0), 2 सूरत एवं 24 अन्य राज्यों से आये प्रवासी है।
इस अवसर पर श्री मनोज कुमार दास, पंचायत-मलमल दक्षिणी द्वारा बताया गया कि वह दिनांक 19.05.2020 को मुंबई से आया है। वह मुंबई में एक हार्डवेयर कंपनी में सुपरवाईजर के रूप में कार्यरत था।

उन्होंने माननीय मुख्यमंत्री को बताया कि उक्त क्वारंटाइन सेंटर पर प्रवासियों को सभी सुविधाएं प्राप्त हो रही है, डिग्निटी किट भी प्राप्त हुई है। उन्हें यहां किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं है।
माननीय मुख्यमंत्री, बिहार द्वारा जिला प्रषासन, मधुबनी द्वारा उक्त क्वारंटाइन सेंटर पर दी जा रही सुविधाओं पर प्रवासियों से संवाद के पश्चात संतोष व्यक्त किया गया।

इस अवसर पर रहिका प्रखंड के पोल स्टार स्कूल स्थित क्वारंटाइन सेंटर पर डाॅ0 निलेश रामचन्द्र देवरे, भा0प्र0से0, जिलाधिकारी, मधुबनी, डाॅ0 सत्यप्रकाश, पुलिस अधीक्षक, मधुबनी एवं अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित थे।