कोरोना से जंग में होगी सहूलियत,दर्पण प्लस एप रखेगा चिकित्सा कर्मियों पर नजर

1421

ससमय स्वास्थ्य सुविधाएं होंगी उपलब्ध
कार्यपालक निदेशक ने पत्र लिखकर दिया निर्देश
केयर इण्डिया के द्वारा एप को किया गया कस्टमाइज्ड
चिकित्सा कर्मियों की उपस्थिति का एप करेगा अनुश्रवण

मुंगेर: कोरोना वायरस का प्रकोप देश के साथ बिहार में भी बढ़ने लगा है. इसके मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के दिशा -निर्देश में विभिन्न प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय जिलों में किये जा रहे हैं. कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए सभी जिलों में चिकित्सकीय दल का गठन किया गया है. साथ ही कार्य स्थल पर चिकित्सकों, नर्सेज एवं एएनएम की निरंतर उपस्थिति को लेकर भी जिलों को दिशा-निर्देश दिए गए हैं. इसी कड़ी में दर्पण प्लस एप भी अब चिकित्सा कर्मियों की कार्य स्थल पर उपस्थिति की मॉनिटरिंग करेगा. इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने सभी जिलों के सिविल सर्जन को पत्र लिखकर दिशा-निर्देश दिया है.

केयर इण्डिया के द्वारा एप को किया गया कस्टमाइज्ड:
पत्र के माध्यम से बताया गया कि कोरोना को मात देने के लिए सभी जिलों में रोस्टर के अनुसार चिकित्सा कर्मियों की तैनाती की गयी है. साथ ही उनकी शत-प्रतिशत उपस्थिति के भी निर्देश दिए गए हैं, जिसकी मॉनिटरिंग अब प्रत्येक दिन राज्य से भी की जाएगी. इसे ध्यान में रखते हुए दर्पण एप प्लस को केयर इण्डिया/स्टेट रिसोर्स यूनिट के के सहयोग से कस्टमाइज्ड किया गया है. कोविड 19 से संबंधित स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराने के लिए चिकित्सा कर्मियों के अपडेटेड रोस्टर जिलों के द्वारा ईमेल के मध्यम से राज्य स्वास्थ्य समिति को भेजे गए हैं. साथ ही इन रोस्टरों को संजीवनी प्रणाली में अपडेट कर दिया गया है.

जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी को रोस्टर अपडेट करने की होगी जिम्मेदारी:
दर्पण प्लस एप में संजीवनी प्रणाली के तहत संधारित चिकित्सकों का रोस्टर उपयोग किया जा रहा है. इसके लिए संजीवनी प्रणाली में कोविड-19 के तहत चिकित्सकों के बनाये गए रोस्टर को हमेशा अपडेट करने की जरूरत है. इसे ध्यान में रखते हुए जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी को रोस्टर अपडेट करने की जिम्मेदारी दी गयी है.

विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से जिलों के जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी को जिला अस्पताल, अनुमंडलीय अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, रेफ़रल अस्पताल एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिन्हित चिकित्सा कर्मियों के मोबाइल में दर्पण प्लस एप को इंस्टाल करने के निर्देश दिए गए हैं, जिसमें जिला अस्पताल एवं अनुमंडलीय अस्पताल के सुप्रिटेनडेंट एवं हॉस्पिटल मैनेजर एवं सीएचसी/रेफ़रल अस्पताल/ पीएचसी के प्रभारी चिकित्साधिकारी एवं हेल्थ मैनेजर को अपने मोबाइल में दर्पण प्लस एप इंस्टाल करेंगे. साथ ही इस एप के माध्यम से ही चिकित्सकों, नर्सेज एवं एएनएम की प्रतिदिन की उपस्थिति दर्ज की जाएगी.

उपस्थित चिकित्सा कर्मी सेल्फी फोटो करेंगे अपलोड:
दर्पण प्लस एप को खोलने के बाद चिकित्सकों की सूची दिखेगी. सूची के अनुसार चिकित्सा कर्मियों की उपस्थिति एप में दर्ज करनी होगी. अनुपस्थित चिकित्सा कर्मियों की संख्या अंकित करने के बाद कॉमा देकर अनुपस्थित नर्सेज एवं एएनएम का नाम कॉमा के साथ अंकित की जानी है. इसके बाद उपस्थित चिकत्सकों, नर्सेज एवं एएनएम के साथ सेल्फी फोटो लेकर सेव करना है एवं इसके उपरांत लिस्ट आप्शन में जाकर अंकित डेटा को भेजना है. इसके लिए इन्टरनेट की सुविधा होना जरुरी है.