कोरोना लॉकडाउन में माल गोदाम श्रमिक को नहीं है बचाव की सुविधा : संजीव

2919

माल गोदाम में शोषण,ना ही हाथ धोने की सुविधा

सहरसा : 25 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन कि घोषणा की गयी । आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी तरह के व्यवसायिक क्रियाकलाप बंद कर दिये गए । रेलवे की यात्री सेवा पूरी तरह से ठप है।लेकिन मालगाड़ी सेवा को चालू रखा गया है ताकि जरूरी वस्तुओं की सप्लाई चेन बनी रहे है । रेलवे के माल गोदामों में सामानों की लोडिंग – अनलोडिंग जारी है और इस काम में लगे हैं मालगोदाम मजदूर ।

रेलवे के मालगोदाम मजदूर मुख्य रूप से असंगठित मजदूर की श्रेणी में आते हैं और देश के बाकी असंगठित मजदूरों की तरह इनकी हालत भी दयनीय है। मालगोदाम श्रमिक विषम परिस्थिति में किस तरह बिना किसी सुविधा के काम कर रहे हैं ।

भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ समस्तीपुर मंडल के संगठन मंत्री संजीव कुमार सिंह द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि ये मजदूर भी अपने घर परिवार से दूर रेलवे साईडिंग के आस-पास ही किसी छोटी सी झोंपड़ी में समूहों में गुजारा करते हैं जबकि रेलवे को सबसे अधिक आमदनी माल गाड़ी से होती है और मालगोदाम के मजदूर इस आमदनी का प्रमुख जरिया हैं ।

श्री संजीव ने कहा कि मालगोदाम के इन सुविधाविहीन श्रमिकों के लिए भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ वर्षों से लड़ाई लड़ रहा है । एक बार फिर माल गोदाम के इन श्रमिकों को उनका अधिकार दिलाने के लिए हम संघ के संगठन मंत्री के तौर पर रेलमंत्री पीयूष गोयल एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इस संकट की घड़ी में माल गोदाम श्रमिकों के योगदान को याद दिलाया है , साथ ही उन्होने इन श्रमिकों के सभी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं को ठीक से लागू करवाने की अपील की ।

अपने पत्र में उन्होने लिखा कि हम अभिवादन करना चाहते हैं भारत सरकार का, कि कोरोना वायरस को पूरे देश में फैलने से रोकने के लिए सरकार ने जिस तरह से दृढ़ सिद्धांत लिए है वह प्रशंसनीय है ।

भारत सरकार ने जब इस आपातकालीन परिस्थिति में भी पूरे देश की आपूर्ति श्रृंखला को सही तरीके से बरकरार रखने के लिए रेलवे मालगाड़ी को चलाने की सिद्धांत लिया तब सारे देशवासी को भारतीय रेलवे माल गोदाम में काम करने वाले श्रमिकों के महत्त्व के बारे में पता चला होगा ।

जो श्रमिक भारतीय रेलवे के जन्म के समय से आज तक समस्त सरकारी सुविधाओं से वंचित रहे हैं , वही रेलवे माल गोदाम के श्रमिक आज देश की कठिन परिस्थिति में अपनी जान की परवाह ना करते हुए मैदान पर उतर कर काम कर रही है ।

इस कोरोना महामारी के चलते, रेलवे माल गोदाम में मजदूरों की निजी सुरक्षा बरकरार रखते हुए काम करने के लिए रेलवे मंत्रालय सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए । हमें पूर्ण विश्वास है कि जल्द से जल्द रेलवे मंत्रालय के माध्यम से सभी श्रमिकों को काम करने के लिए सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाया जाएगा ।