बेघर,बेसहारा के लिए आवासन एवं सामुदायिक किचन की व्यवस्था

1483
पटेल मैदान में जिला प्रशासन की व्यवस्था
सहरसा : कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के लिए किये गये लाॅक डाउन की स्थिति में जिला प्रशासन द्वारा बेघर,बेसहारा, जिनके पास आश्रय अथवा भोजन की समस्या है वैसे व्यक्तियों जिनमें रिक्सा वाले,ठेला वाले,मजदूर, भिखारी आदि सम्मिलित है के लिए पटेल मैदान सहरसा में आपदा राहत केन्द्र 27 मार्च से क्रियाशील कर दिया गया है। ऐसे आश्रयहीन 31 लोगों की रहने की व्यवस्था की गई है उन्हें सामुदायिक किचन के माध्यम से दो समय तैयार भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला पदाधिकारी के निर्देश पर आपदा राहत केन्द्र पटेल मैदान में एवं प्रमंडलीय परीक्षा भवन, सहरसा में 50-50 का आइसोलेशन वार्ड तैयार कर लिये गये हैं।  जिलाधिकारी ने वरीय आपदा प्रभारी सह अपर समाहर्त्ता सहरसा धीरेन्द्र कुमार झा को उक्त सारी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराते हुए अपने पर्यवेक्षण में आपदा राहत केन्द्र के संचालन का दायित्व दिया है। इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश एवं उत्तरप्रदेश के 28 घूमंतु परिवार जिसमें 180 व्यक्ति हैं पटेल मैदान में उनके रहने के लिए आपदा टेंट लगाये गये हैं। लाॅक डाउन की स्थिति में ये घूमंतु परिवार जिनके सामने आवासन एवं भोजन की समस्या हो रही है को देखते हुए जिलाधिकारी के निर्देश पर इन परिवारों के सभी व्यक्तियों के लिए सामुदायिक किचन के माध्यम से तैयार भोजन उलब्ध कराया जा रहा है। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है कि लाॅक डाउन की स्थिति में जिनके पास आश्रय नहीं है उन्हें रहने की व्यवस्था एवं भोजन की व्यवस्था सुनिष्चित करायी जाय। आपदा की घड़ी में कोई भी ऐसा व्यक्ति ना रहे जिन्हें आवासन एवं भोजन की समस्या हो।