प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के तहत मुंगेर जिले में अबतक 1.39 लाख परिवारों को मिला गोल्डन कार्ड

1421

जिले के 2 निजी अस्पतालों को शामिल करने के लिए भेजा गया है प्रस्ताव
प्रति वर्ष 5 लाख तक के निःशुल्क इलाज का है प्रावधान
गोल्डन कार्ड पाकर लाभुक हो रहे स्वास्थ्य के प्रति जागरूक

मुंगेर। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत जिले में गोल्डन कार्ड का उपयोग करने वालो की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। यह योजना गरीब व आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए वरदान साबित हो रही है। आयुष्मान भारत योजना के तहत मुंगेर जिला के गोल्डन कार्डधारी स्वास्थ्य का लाभ उठा रहे हैं। 27 फरवरी तक जारी रिपोर्ट के मुताबिक जिले में अबतक लगभग 1.39 लाख परिवारों के गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके हैं। कई गोल्डन कार्डधारी लाभुकों ने बताया कि इस योजना से हमारी स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के हर निदान में अहम भूमिका निभा रही है। इस योजना के तहत जिले के 8.5 लाख परिवारों को हर साल 5 लाख रुपये तक की मुफ्त इलाज की सुविधा देने की योजना है।

शहर के दो निजी अस्पतालो में भी जल्द मिलेगा आयुष्मान योजना का लाभ

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के तहत चयनित लाभुकों को अब मुंगेर के निजी अस्पतालों में भी इलाज कराने की सुविधा जल्द ही उपलब्ध होने वाली है. इसके लिए जिला स्वास्थ्य समिति ने अपनी सारी प्रक्रियाएं पूरी करके राज्य स्वास्थ्य समिति को प्रस्ताव भेज दिया है। मेडिकल टीम ने दो निजी अस्पतालों के रजिस्ट्रेशन का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजा है। इसमें शहर के सिटी क्रिटिकल हॉस्पिटल तथा जीवन अवतार हॉस्पिटल शामिल किया गया है। अब तक जिले भर में सरकारी अस्पतालों में आयुष्मान भारत के तहत मरीजों को चिकित्सा सेवा का लाभ मिल पा रहा है।

सूची में दर्ज लाभुक जल्द बनवाएं अपना गोल्डन कार्ड:

सिविल सर्जन डॉ. पुरुषोत्तम कुमार ने बताया सूची में दर्ज लाभुक जल्द से जल्द अपना गोल्डन कार्ड बनवा लें। इसके लिए सभी प्रखंडों में गोल्डेन कार्ड निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है। उन्होंने बताया यदि किसी लाभार्थी का आयुष्मान योजना में नाम होगा और गोल्डन कार्ड नहीं बना होगा तब भी उनका नि:शुल्क जांच-इलाज किया जायेगा। लेकिन मरीज को राशन कार्ड व आधार कार्ड इलाज के दौरान उपलब्ध कराना होगा। जल्द ही जिले के 2 निजी अस्पतालों में भी इस योजना के तहत इलाज की सुविधा उपलब्ध होगी।

जिले के 24 अस्पतालों में इस योजना का मिल रहा है लाभ

जिले से लेकर पंचायत स्तर पर शिविर लगाकर लोगों के गोल्डन कार्ड बनाये जा रहे हैं। लोगों को योजना के तहत लाभ दिलाने के लिए कुल 24 अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है। सूची के अनुसार जिन लाभुकों का गोल्डन कार्ड अब तक नहीं बना है वह भी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं। गोल्डन कार्ड के लाभुकों ने बताया कि इस योजना के तहत बेहतर ईलाज की सुविधाएं मिल रही हैं।

1300 से अधिक प्रकार की बीमारियों का होता है इलाज

आयुष्मान भारत योजना के तहत हड्डी, ऑर्थो, बर्न, नसबंदी, प्रसव, नवजात शिशु, इमरजेंसी रूम पैकेज, जानवर के काटने पर इलाज, शरीर के अंग के टूटने पर प्लास्टर, फूड प्वायजनिंग, हाई फीवर का किशोरावस्था, नवजात शिशु, जनरल सर्जरी, जनरल मेडिसीन आदि 1300 से अधिक रोगों के मुफ्त इलाज का प्रावधान है।

उम्र की कोई बाध्यता नहीं, सभी लोग इस योजना का उठा सकते हैं लाभ

गोल्डन कार्ड के तहत किसी भी उम्र के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। साथ ही परिवार के आकार को लेकर कोई बंदिश भी नहीं है। योजना को संचालित करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी ने एक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। इसके जरिये लाभार्थी यह जान सकते हैं कि उनका नाम लिस्ट में शामिल है या नहीं। लिस्ट में नाम जांचने के लिए mera.pmjay.gov.in वेबसाइट देख सकते हैं या हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है।