अंगिका को आठवीं अनुसूची में शामिल करने-कराने के सवाल को लेकर मानव श्रृंखला का आयोजन

1597

समृद्ध भाषा की उपेक्षा को अनुचित बताया

भागलपुर : दुनियां की प्राचीन एवं अंग महाजनपद की लोक भाषा अंगिका को भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने-कराने के सवाल को लेकर अंग पुत्र लखनलाल पाठक के नेतृत्व में रविवार को सैंडिस कंपाउंड में अंगिका मानव श्रृंखला का आयोजन हुआ, जिसमें भागलपुर व आसपास के सभी पार्टी-दल एवं सभी संगठनों के लगभग हजारों-हजार अंगिका प्रेमी शामिल हुए। हाथ से हाथ मिला कर मानव श्रृंखला में खड़े लोगों ने अपनी लोकभाषा अंगिका को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल कर इसे समुचित सम्मान व अधिकार देने- दिलाने हेतु सुर में सुर मिलाकर एक साथ सरकार से आग्रह किया। इस मानव श्रृंखला में संत मेही दास,बाबा तिलका मांझी, बाबा विशु राउत और विषहरी भगत की झांकी के साथ अंगिका व संथाली लोक नृत्य की झांकी विशेष रूप से आकर्षण केंद्र में बना रहा। लोगों को संबोधित करते हुए अंग पुत्र सह अंगिका मानव श्रृंखला तैयारी समिति के संरक्षक लखनलाल पाठक ने कहा कि अंगिका को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए अंगिका भाषियों ने अपनी पूरी एकजुटता के साथ पहली अंगराई ले ली है। उन्‍होंने कहा कि अंग प्रदेश की भाषा साहित्य-सभ्यता, संस्कृति, लोक कला, लोक गाथा और विरासत की अस्मिता और अस्तित्व के लिए वह किसी भी स्तर तक की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं और अपनी इस लड़ाई को वे अंतिम सांस तक जारी रखेंगे। उन्‍होंने पार्टी-दल व सभी संगठनों के इस एकजुटता को बनाए रखने की अपील करते हुए सबों का आभार प्रकट किया।
वहीं बांका के जदयू नेता पप्पु सिंह ने अंगिका की उपेक्षा और इसके प्रति सरकारी उदासीनता को लेकर निंदा की और कहा कि अंगिका के सम्मान और अधिकार को लेकर अब लोग घर से निकलकर सड़क तक आ चुके हैं और अब यह सम्मान को अधिकार मिलने तक न तो वे खुद चुप बैठेंगे और ना ही वे राजनेताओं को चैन की सांस लेने देंगे। उन्होंने अंगिका को अब वोट की भाषा बनाने की बात कही और बताया कि जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उस दिन अंगिका को समुचित सम्मान और अधिकार मिलने से कोई रोक नहीं पायेगा।
संयोजक गौतम सुमन ने कहा कि यह लड़ाई अब जनांदोलन का रुप बन चुका है,यह उस बात को प्रमाणित करता है कि संघर्ष करते चलिये,लोग मिलेंगे और कारवां बनेगा। उन्‍होंने कहा कि पार्टी-दल और संगठन का अब दिल मिल चुका है,इसलिए निश्चित रुप से यह एकजुटता रंग लाएगी और अंगिका की लडा़ई को कामयाबी मिलेगी।
युवा महोत्सव के संयोजक प्रॊ.देवज्‍योति मुखर्जी ने कहा कि किसी भी लोकभाषा की उपेक्षा उचित नही है। उन्‍होंने कहा कि लोकभाषा अंगिका के नाम पर इस मानव श्रृंखला की गूंज शीर्ष स्‍तर तक जाएगी क्योंकि अंगिका कि इस लड़ाई में अंग महाजनपद के सभी भाषा भाषी के लोग साथ हैं और सदैव साथ रहेंगे।
मौके पर मौजूद नगर विधायक अजीत शर्मा ने कहा कि अंगिका ऐसी समृद्ध भाषा साहित्य की उपेक्षा कतई उचित नहीं है।भाजपा जिला अध्यक्ष रोहित पांडेय ने कहा कि राज्य सरकार को चाहिए कि अंगिका भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने हेतु वे अपने स्तर से और पूरी मजबूती के साथ केंद्र सरकार से पहल करें। भागलपुर जदयू नेता विभूति गोस्वामी व गुलशन कुमार ने कहा कि जब अंगिका की चिर लंबित मांगें अंगिका अकादमी का गठन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कर दी है तो यह भी तय है कि बहुत ही जल्द अंगिका को झारखंड की तरह सम्मान व अधिकार नीतीश कुमार जरूर देंगे ।वहीं कांग्रेसी नेता डॉ.शंभू दयाल खेतान व संजय सिन्हा ने कहा कि जब अंगिका भाषा संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल होने इस सभी शर्तों को पूरा करती है तो फिर वे इसकी उपेक्षा क्यों कर रहे हैं यह समझ से परे है ।वही रालो सपा नेता हिमांशु पटेल रवी शेखर भारद्वाज और ओम भास्कर ने अंगिका ऐसी समृद्ध भाषा की उपेक्षा को अनुचित बताया ।राजद नेत्री डॉ बीणा यादव एवं जन्मेजय यादव ने कहा कि अंगिका भाषा के प्रति उपेक्षा हेतू इस जंग के शंखनाद की गूंज बहुत दूर तक पहुंचेगी। वंचित समाज पार्टी की नेत्री डोली मंडल एवं सुबोध मंडल ने भी मानव श्रृंखला को संबोधित कर मानव श्रृंखला के समान मांग को जायज बताया। आईएमए के अध्यक्ष डॉ. चंद्रमौली उपाध्याय डॉ. डी.पी. सिंह, संदीप लाल, डॉ. वीरेंद्र कुमार, डॉ संजय सिंह, डॉ अजय कु. सिंह, डॉ विनोद कुमार, डॉ साकेत बिहारी शरण आदि ने भी लोगों को संबोधित करते हुए सरकार से आग्रह किया कि पेट से जुड़े अंगिका के इस सवाल को समुचित सम्मान और अधिकार देने-दिलाने की दिशा में वे सकारात्मक पहल शीघ्र करें। बार एसोसिएशन के सचिव अधिवक्‍ता वीरेश मिश्रा ने कहा कि लोकभाषा अंगिका की उपेक्षा लोकतंत्र की उपेक्षा है। वहीं कुमकुम द्विवेदी,अरुणिमा सिंह,श्‍वेता सिंह,सुजाता कुमारी,सावित्री देवी,नीसू सिंह,रेणु ठाकुर,अंजली घोष आदि ने भी मानव श्रृंखला को संबोधित किया और कहा कि जब जब नारी शक्ति सड़क पर उतरी है,एक नई क्रांति का उदय हुआ है। समय रहते लोकभाषा अंगिका के प्रति सरकार सजग हो जाएं अन्यथा इनका खामियाजा उन्हें आने वाले समय में भुगतना पड़ेगा। साहित्‍यकार डॉ. अमरेंद्र अमोद कु. मिश्र, प्रो. मधुसूदन झा, प्रो. प्रेम प्रभाकर,दिनेश बाबा तपन,हीरा हरेन्‍द्र,गीतकार राजकुमार,विकास गुलटी,फुल कुमार अकेला आदि निधि मानव श्रृंखला को संबोधित कर कहां की सरकार यदि शीघ्र मानव श्रृंखला के इस मांग के प्रति अपने नजरिए को स्पष्ट नहीं करेगी तो आने वाले समय में हम वोट के माध्यम से उन्हें मुंहतोड़ जवाब देंगे।अंगिका भाषा के नाम पर इतिहास में पहली बार बनी इस मानव श्रृंखला में मुख्‍य रुप से अंग महाजनपद के कवि,कवियत्री,साहित्‍यकार,रंग व सांस्‍कृतिककर्मी,समाज सेवी,राजनीतिक पार्टी भाजपा,जदयू,कांग्रॆस,राजद,सीपीआई,सीपीएम,सीपीआईएमएल,जाप,आप,हम,लोजपा,एनसीपी,रालोसपा,वंचित समाज पार्टी,बीपीएल,शांति प्रहरी,अंगिका प्रॆमी,चिकित्‍सक,अधिवक्‍ता,सांसद,विधायक,विधान पार्षद सदस्‍य,महापौर,उपमहापौर,निगम पार्षद,जिला परिषद अध्‍यक्ष,जिला परिषद सदस्‍य,मुखिया,प्रमुख,पंचायत समिति सदस्‍य, ,स्‍कूल,काॅलेज प्राचार्य,शिक्षकगण,लॉज संचालक,स्‍कूल,काॅलेज के छात्र व छात्रागण,सभी सामाजिक संस्‍था आईएमए,आईडीए,
पटेल स्‍मारक समिति,जयप्रकाश उद्यान सह सैंडिस कम्‍पाउन्‍ड विकास समिति,बार एसोसियेशन , मारवाडी़ युवा मंच,चैम्‍बर आॅफ काॅमर्स, राॅटरी क्‍लब आॅफ भागलपुर,लायन्‍स क्‍लब, आरएसएस,विश्‍व हिन्‍दू परिषद,हिन्‍दू जागरण मंच,क्षत्रिय युवा मंच,राष्ट्रीय मुस्लिम मंच,जन आवाज सेना,न्‍यू शिक्षक एशोसिएसन,भुस्‍टा,भूटा,स्‍वदेशी जागरण मंच, एक्‍टा,जागृति युवा मंच,युवा चेतना क्‍लब, स्‍कैफ चैरिटी,लायंस क्‍लब आॅफ भागलपुर,टैक्‍टाईल चैम्‍बर आॅफ काॅमर्स,जीवन जागृति सोसायटी,उड़ान, संकल्‍प,जज्‍बा,संवेत,एबीवीपी,एनएसयूआई,आयसा,एआईडीएसओ,परिधि,नेहरू युवा केन्‍द्र,गांधी शांति प्रतिष्‍ठान,सफाली युवा क्‍लब,समन्‍वय समिति,स्‍वर्णकार संघ,बगुला मंच,कला सागर सांस्‍कृतिक मंच,रंग ग्राम,संबंध,बंगाली समिति,राढी़ बांधव समिति,पुर्वांचल भोजपुरी परिषद,अखिल भारतीय अंगिका विकास समिति,काली पुजा महासमिति,दुर्गा पुजा महासमिति,विषहरी पुजा महासमिति,सेंट्रल मोहर्रम कमिटि,शांति समिति,अखिल भारतीय अंगिका साहित्‍य कला मंच,विक्रमशीला हिन्‍दी विद्यापीठ,चाँद, हल्का ए अदब, उर्दू राबता कमेटी, नगर विकास समिति, बैंक,शिक्षक,मजदूर आशा,वाहन,रिक्‍सा यूनियन टीम के सदस्‍य आदि ने अपना सहयोग और समर्थन दिया। इस मौके पर पुतुल पांडेय, राजकिशोर केसरी, चिंटू दत्ता, नवल किशोर सिंह, ध्रुव कुमार साहा, योगेंद्र पाल, मनोज पंडित सागर, विजय झा गांधी, जयप्रकाश यादव, ओम प्रकाश यादव, श्वेता भारती,संजुक्ता भारती, नील राज, पूर्णेन्दु चौधरी, विष्णु कुमार,रवीश रवि, बाबुल विवेक, मुकेश कुमार, राहुल मुकेश, राजकिशोर केसरी, राजीव बनर्जी अमलान दे, उत्तम देवनाथ, जयजीत घोष,श्रवण बिहारी,असीमपाल,एके सरकार, महेंद्र मयंक आदि के साथ हजारों लोग मौजूद थे।