शिक्षकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी, शिक्षक अब आर-पार के मूड में

खुटौना (मधुबनी) से रमेश कुमार की रिपोर्ट

मधुबनी: समान काम के बदले समान वेतन सहित अन्य मांगों को लेकर पूरे बिहार में विगत 17 फरवरी से आरंभ नियोजित शिक्षकों की हड़ताल और जोड़ पकड़ती जा रही है। जिले के खुटौना प्रखंड मुख्यालय के बीआरसी भवन के सामने शनिवार को शिक्षक नेता सूर्य नारायण जी की अध्यक्षता में हड़ताली शिक्षको को एक बड़ी सभा हुई जिसे स्थानीय शिक्षको के अलावा मधुबनी से आए शिक्षक संघर्ष समिति के अध्यक्ष मंडल के जिला स्तरीय नेताओं ने संबोधित किया। जिले से पहुँचे संगठन के अधिकारियों को मिथिलांच की परम्परा के अनुसार पाग-डोप्टा से सम्मानित किया गया।

              सभा को संबोधित करने वाले मुख्य नेताओं राजू यादव, संजीव कुमार कामत, अतुल सिंह तथा वशी अख्तर, रंजीत खन्ना, दिलीप कुमार अमर, शशिकला कुमारी आदि ने अपने भाषणों में कहा कि समान काम के बदले समान वेतन की नियोजित शिक्षकों की मांग पुरानी है जिसे माननीय पटना उच्च न्यायालय ने भी सही ठहराया है।

                उन्होंने कहा कि शिक्षक अपनी मांग पूरी हड़ताल पर रहेंगे और पीछे हटने की सवाल की नही उठता। नेताओं ने कहा कि शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव रोज नई नई चिट्ठी निकालकर शिक्षकों को डरा रहे है हम न तो डरने वाले है न तो पीछे हटने वाले। सभी शिक्षकों ने कहा  कि इस बार की लड़ाई आर पार की लड़ाई है।                         25 फरवरी से नियोजित माध्यमिक शिक्षक भी जुटेंगे, तब हम सरकार को उसकी हैसियत बता देंगे। नेताओं ने कहा कि मैट्रिक की परीक्षा तो ले रहे है किंतु उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करवा के सही समय पर रिजल्ट दे देंगे तो जानेंगे।

शिक्षक नेताओं ने चेतया की हम नोकरी जरूर कर रहे लेकिन हम बिहार जनता भी है । बड़े बड़े तानाशाह जनता की आह लगने से धूल चाटने लगते है नीतीश कुमार की सरकार को शिक्षकों को वेतनमान देना ही होगा।

                     मंच संचालन खालिद अंजुम और उग्रनाथ कुमार ने किया। सभा मे ललन कुमार, रविशंकर प्रसाद, रंजन गुप्ता, संजीव कुमार वर्मा, उग्रनाथ कुमार, कृष्ण कुमार पंकज, डॉ०संजय कुमार शर्मा, हरि किशोर यादव, रंजना कुमारी, दिलीप गोईत, राम उदगार शर्मा सहित सैकड़ों शिक्षक-शिक्षिकाओं ने भाग लिया और अपने चट्टानी एकता को प्रदर्शित किया ।