गर्भवती महिलाओं की हुई स्वास्थ्य जांच,दी गयीं आवश्यक दवाईयां

1807

प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षा अभियान को लेकर गर्भवतियों की होती है जांच

लखीसराय: प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षा अभियान को लेकर जिला के सूर्यगढ़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व हलसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर गर्भवती माताओं के स्वास्थ्य की जांच की गयी. सूर्यगढ़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर 25 गर्भवती महिलाओं व हलसी में 76 गर्भवती महिलाओं के रक्तचाप, शुगर, वजन, हीमोग्लोबिन, आयरन व अन्य की जांच कर आवश्यक दवा दी गयी. साथ ही खानपान संबंधित सलाह भी दिये गये. उन्हें बताया गया कि प्रसव पूर्व इन जांच से प्रसव के दौरान काफी आसानी होती है.सिविल सर्जन डॉ सुरेश शरण ने बताया कि यह केवल गर्भवती महिलाओं के लिए है. गर्भावस्था का तीसरा महीना शुरू होने और छठा महीना खत्म होने के बीच के किसी भी महीने में गर्भवती महिलाएं अपना पंजीयन करा सकती हैं. इसके तहत आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओं को काफी मदद मिलती है. इस अभियान से मातृत्व मृत्यु दर में काफी कमी हो सकेगी.गर्भवती महिला हो तो जरूर जायें नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर

यदि कहीं भी गर्भवती महिला हो और आर्थिक रूप से कमजोर हो तो उसे हर माह आयोजित होने वाले इस स्वास्थ्य जांच में जरूर जाना चाहिए. यहां मौजूद जांच प्रक्रिया व चिकित्सीय सलाह से गर्भवती महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के मुद्दों, रोगों के बारे में जागरूक कर सुरक्षित प्रसव कराने में काफी सुविधा होगी. इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं की सभी प्रकार की डॉक्टरी जांच पूरी तरह से मुफ्त होती है. महिलाओं के टेस्ट चिकित्सा केन्द्रों, सरकारी-निजी अस्पतालों, क्लिनिक में किए जाते हैं. इसके साथ ही महिलाओं को उनकी स्वास्थ्य समस्याओं के आधार पर स्टीकर देकर चिह्नित कर उनका इलाज किया जाता है. मुफ्त डिलीवरी के बाद बच्चे का सभी तरह का टीकाकरण, उसका चेकअप भी मुफ्त होता है. पंजीकरण के बाद महिला डॉक्टर महिला की एनीमिया, गर्भावधि, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, संक्रमण, खून-पेशाब, शुगर की जांच कर रिपोर्ट बनाकर जरूरी दवा देती हैं.अस्पताल प्रबंधन देता है कार्ड

हर माह 9 तारीख को कराये जाने वाले चेकअप को लेकर गर्भवती महिला को अस्पताल प्रबंधन की ओर से एक कार्ड दिया जाता है. इसे दिखाकर वह हर महीने अपना चेकअप करा सकती हैं. साथ ही किसी महिला का केस जोखिम होने की स्थिति में उसे बड़े अस्पताल रेफर करने और प्रसव कराने की सुविधा दी जाती है. इस योजना के तहत सभी सुविधाएं प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मौजूद होती है. शहरी क्षेत्र में सरकारी अस्पताल सहित जिला के अस्पतालों व मेडिकल कॉलेज में इसकी सुविधा दी जाती है.