BNMU: 51 असिस्टेंट प्रोफेसरों की सेवासंपुष्टि का निर्णय,देखे पुरी लिस्ट

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
1056

सिंडीकेट का निर्णय, समिति की अनुशंसा

मधेपुरा: बिहार लोक सेवा आयोग, पटना की अनुशंसा पर 2016 एवं 2017 में नियुक्त 51 असिस्टेंट प्रोफ़ेसरों की सेवा संपुष्ट होगी। इस आशय का निर्णय गुरूवार को कुलपति डाॅ. अवध किशोर राय की अध्यक्षता में आयोजित पद सृजन, अंतर्लीलीकरण एवं संपुष्टि समिति की बैठक में लिया गया।

विवरण निम्नानुसार है– विश्वविद्यालय पीजी मुख्यालय (चार)- डॉ. शंकर कुमार मिश्रा, डॉ. आनंद कुमार सिंह, असीम राय एवं अमित विश्वकर्मा।

पश्चिमी परिसर, सहरसा (तीन)- डॉ. अनिल कुमार, रमन कांत चौधरी एवं डॉ. नरेंद्र नाथ झा।

टी. पी. काॅलेज, मधेपुरा (सात)- डॉ. उपेंद्र प्रसाद यादव, अरुण कुमार, डॉ. सुधांशु शेखर, डॉ. विजयाकुमारी, दीपक कुमार राणा, गुड्डू कुमार एवं डॉ. मिथिलेश कुमार सिंह।

के. पी. काॅलेज, मुरलीगंज (पांच)- महेंद्र मंडल, सुशांत कुमार सिंह, डॉ. मोहम्मद अली अहमद मंसूरी, डॉ. विजय कुमार पटेल एवं डॉ. शिवा शर्मा।

एच. एस. काॅलेज, उदाकिसुनगंज (तीन)- डॉ. रणधीर कुमार सिंह, बप्पा अधिकारी एवं अजय कुमार।

एम. एल. टी. काॅलेज, सहरसा (पांच)- डॉ. संजीव कुमार झा, विनीत शर्मा, डॉ. सुमन कुमार, बलवीर कुमार झा एवं अभिलाषा कुमारी।

आर. जे. एम. काॅलेज, सहरसा (छः)- डॉ. संगीता सिन्हा, डॉ. अभय कुमार, डॉ. कृष्ण मोहन ठाकुर, पूजा कुमारी, डॉ. प्रत्यक्षा राज एवं प्रीति गुप्ता।

एम. एच. एम. काॅलेज, सोनवर्षा (चार)- नंटून पासवान, प्रदीप कुमार राय, डॉ. ओंकार नाथ मिश्रा एवं शशिकांत कुमार।

बी. एस. एस. काॅलेज, सुपौल (चार)- शुभाशीष दास, सुमित कुमार, डॉ. अरुण कुमार सिंह एवं अनामिका यादव।

एल. एन. एम. एस. काॅलेज, वीरपुर (तीन)- विनय कुमार, निहारिका प्रजापति एवं मोहित गुप्ता।

एच. पी. एस. काॅलेज, निर्मली (सात)- डॉ. अतुलेस्वर झा,पंकज कुमार, डॉ. कुमार गूँजेश गुंजन, सुदिप्ता घोष, संतोष कुमार सिंह, डॉ. कृष्ण चौधरी एवं विजय शंकर।

सिंडीकेट का निर्णय, समिति की अनुशंसा

मालूम हो कि अभिषद् की बैठक दिनांक-24.10.2019 के कार्यावली संख्या-2-5/9 (ग) (ii) में पारित प्रस्ताव के आलोक में असिस्टेंट प्रोफ़ेसरों की सेवा संपुष्टि के प्रस्ताव की समीक्षा हेतु 28 नवंबर, 2019 को दो सदस्यीय कमिटी का गठन किया गया था। इसमें सीसीडीसी डाॅ. भावानंद झा एवं महाविद्यालय निरीक्षक डाॅ. ललन प्रसाद अद्री के नाम शामिल थे। समिति ने विभागाध्यक्षों एवं प्रधानाचार्यों से प्राप्त गोपनीय आचरण एवं सेवा संपुष्टि प्रस्ताव का गहन अवलोकन किया और इसकी समीक्षा करते हुए सेवा संपुष्टि की अनुशंसा की। समिति के प्रस्ताव को गुरूवार को आंशिक संशोधन के साथ स्वीकृति प्रदान की गई। इस तरह लगभग एक वर्ष से जारी यह प्रक्रिया एक सुखद अंजाम तक पहुंची।

मिलेगी कई सुविधाएँ

इसके लिए नवनियुक्त असिस्टेंट प्रोफेसर (दर्शनशास्त्र) सह जनसंपर्क पदाधिकारी डाॅ. सुधांशु शेखर सहित सभी असिस्टेंट प्रोफ़ेसरों ने कुलपति डाॅ. अवध किशोर राय, प्रति कुलपति डाॅ. फारूक अली, कुलसचिव डाॅ. कपिलदेव प्रसाद, समिति के सभी सदस्यों और सभी सिंडीकेट सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया है। उन्होंने बताया कि सेवासंपुष्टि होने से नवनियुक्त असिस्टेंट प्रोफेसरों को कई सुविधाएँ प्राप्त हो सकेंगी। उन्हें विभिन्न अवकाशों का समुचित लाभ मिल सकेगा। साथ ही वे शोध-निदेशक बनकर चार शोधार्थियों को शोध करा सकेंगे। इससे विश्वविद्यालय में अधिकाधिक विद्यार्थियों पी-एच. डी. नामांकन का अवसर मिल पाएगा।

बैठक में प्रति कुलपति डाॅ. फारूक अली, आर. जे. एम. काॅलेज, सहरसा के प्रधानाचार्य डाॅ. रेणु सिंह, मनोविज्ञान विभागाध्यक्ष डाॅ. कैलाश प्रसाद यादव, पूर्व विधायक गूंजेश्वर साह एवं कुलसचिव डाॅ. कपिलदेव प्रसाद उपस्थित थे।