आरोग्य दिवस पर सास-बहू सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा:सिविल सर्जन

156

कल से मिशन परिवार विकास अभियान चलाया जायेगा

सहरसा : जिले में  14 जनवरी से मिशन परिवार विकास अभियान चलाया जायेगा। यह अभियान 31 जनवरी तक चलेगा। यह अभियान दो चरणों में पूर्ण होगा। इसको लेकर सिविल सर्जन डॉ. ललन प्रसाद सिंह ने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश जारी किया है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए सोमवार को विकास भवन सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा बैठक का आयोजन किया गया।जिसकी अध्यक्षता उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह ने की।सिविल सर्जन डॉ० ललन प्रसाद सिंह ने बताया कि परिवार नियोजन में अधिक से अधिक उपलब्धि प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर सभी साधनों का निर्धारित दिवस के दिन सेवा प्रदान किया जाएगा।परिवार नियोजन से संबंधित सभी सुविधाओं में महिला बंध्याकरण,पुरूष नसबंदी,कॉपर टी, गर्भनिधोरक गोली,कंडोम,गर्भ निरोधक इंजेक्शन सभी स्वास्थ्य संस्थाओं पर लाभर्थियों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, अनुमंडल अस्पताल और सदर अस्पताल में उपलब्ध कराया जायेगा।उन्होंने कहा कि आशा ओर एएनएम द्वारा गृह भ्रमण के जरिये योग्य दंपत्ति का सर्वे किया जाएगा तथा जनवरी माह में सभी आरोग्य दिवस पर सास-बहू सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा।इस सम्मेलन में किशोरियों को भी शामिल किया जाये ताकि किशोरियों में परिवार नियोजन के सेवाओं एवं लाभ के बारे में जानकारी देने के साथ इच्छुक लाभार्थियों का चयनित सेवा प्रदान की जा सके।सामूहिक सहभागिता पर ज़ोर : 

आईसीडीएस तथा जीविका को अभियान के दौरान सहयोग करने की योजना पर विस्तार से चर्चा की गयी। आंगनबाड़ी सेविका,जीविका के स्वयं सहायता समूह के कार्यकर्ताओं तथा आशा द्वारा गृह भ्रमण के दौरान परिवार नियोजन के साधनों तथा उन को अपनाने से होने वाले फायदे के बारे में जागरूक करने पर भी ज़ोर दिया जा रहा है।दो चरणों में चलेगा अभियान :

सिविल सर्जन डॉ० ललन प्रसाद सिंह ने बताया कि परिवार मिशन परिवार विकास अभियान दो चरणों में चलेगा। अभियान के तहत 14 से 20 जनवरी तक दंपति संपर्क सप्ताह मनाया जाएगा।जबकि 21 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी।शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा,दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर ज़ोर दिया जाएगा। वहीँ परिवार नियोजन सेवा सप्ताह के दौरान प्रथम रेफ़रल इकाइयों में नसबंदी शिविर का आयोजन किया जाएगा।

क्या है मिशन परिवार विकास अभियान :
केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कुल प्रजनन दर (प्रति महिला बच्चों की कुल संख्या) में कमी, आधुनिक गर्भनिरोधों के उपयोग को बढ़ाने,गर्भनिरोधक साधनों की सामुदायिक स्तर पर पहुँच सुनिश्चित करने एवं परिवार नियोजन के प्रति जन–जागरुकता को बढ़ाने के लिए उच्च कुल प्रजनन दर की सूची में शामिल बिहार में मिशन परिवार विकास की शुरुआत की गयी है।बैठक में उपस्थित जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद,जिला प्रोग्राम पदाधिकारी राहुल किशोर,सभी ब्लॉक के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी,यूनिसेफ के एसएमसी बंटेश नारायण मेहता,मजरुल हसन,डब्ल्यूएचओ के एसआरटीएल डॉक्टर राकेश कुमार वर्मा,यूएनडीपी के प्रतिनिधि,केयर इंडिया के डीटीएल रोहित रैना,जीविका के जिला प्रबंधक तथा अन्य सहयोगी संस्था के प्रतिनिधि तथा अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।