Saharsa में सिर्फ 8 Pathology Lab वैध व निबंधित ,बांकी अवैध

3806
अवैध जांच घर को बंद करने का निर्देश
सहरसा@भार्गव भारद्वाज : उच्च न्यायालय के निर्देश के बाद जिले में हुई जांच घरो के जांच में मात्र आठ जांच घर वैध घोषित किए गए हैं।
स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जारी आम सूचना में जिला मुख्यालय के गांधी पथ स्थित सुशीला डायग्नोस्टिक सेंटर,सूर्या हॉस्पिटल एवं गांधी पथ स्थित एडवांस्ड डायग्नोस्टिक सेंटर, मीर टोला स्थित आमना मेमोरियल हॉस्पिटल, नयाबाजार स्थित श्रीकृष्ण शल्य चिकित्सालय, सत्यम हॉस्पिटल, नगरपालिका चौक स्थित आसरा पैथोलोजिकल एंड इन्वेस्टिगेशन सेंटर, डीबी रोड स्थित नन्द पैथोलॉजी को ही वैध घोषित किया गया है।मालूम हो कि कुछ दिन पहले सिविल सर्जन द्वारा जिले में अवैध व अनाधिकृत रूप से संचालित 64 जांच घरो की सूची जारी की थी।
जीवन के साथ खिलवाड़ करने की नही है अनुमति
बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आम सूचना में इसके अलावे संचालित जांच घरो को भविष्य में कभी भी संचालन की अनुमति नहीं दी जाएगी। क्योकि यह नागरिको के स्वास्थ्य एवं जीवन के लिए हानिकारक है। किसी भी मानवजीवन के स्वास्थ्य एवं जीवन के साथ खिलवाड़ की अनुमति नहीं दी जा सकती हैं। ऐसे सभी पैथोलॉजी लेबोरेट्री, जांच घर, नरसिंग होम, क्लीनिक जो मानकों के अनुरूप संचालित नही है या अवैध रूप से संचालित है को बंद करने का आदेश दिया गया है। मालूम हो कि बीते दो जुलाई को अपने आदेश में न्यायालय ने राज्य सरकार को वैधानिक सत्यापन नियम 2018 के प्रावधानों का अनुपालन सुनिश्चित करने का सख्त निर्देश दिया है और इसके प्रावधानों के उल्लंघन करने वालो एवं मानकों के विपरीत संचालित अवैध चिकित्सा संस्थानों पर कार्रवाई करने का आदेश दिया गया था।