केआरपी की अगुवाई मे बैठक आयोजित, चित्र के साथ नारा लेखन लोगों को कर रहा आकर्षित

कोशी एक्सप्रेस: मधुबनी से बी. चन्द्र की रिपोर्ट

                  जल-जीवन-हरियाली, नशामुक्ति, दहेज एवं बाल विवाह उन्मूलन के समर्थन में 19 जनवरी 2020 को आयोजित मानव श्रृंखला की सफलता को लेकर +2 मनमोहन उच्य विद्यालय रामपट्टी में सभी शिक्षा सेवकों की बैठक का आयोजन मुख्य साधन सेवी ( केआरपी ) सुजीत कुमार ठाकुर की अगुवाई में किया गया।

बैठक में श्रृंखला के सफल क्रियान्वयन के लिए नारा लेखन की समीक्षा, माइक्रोप्लानिंग, जागरूकता, व आगे की रणनीति बनाई गई। केआरपी ने कहा बिगड़ते पर्यावरण के कारण विश्व स्तर पर उत्पन्न जल संकट से निपटने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। इसके लिए हर किसानों को अपने खेतों में वर्षाजनित एवं अन्य तरह के जल संरक्षित करने के लिए कुआं खुदाई कराने को प्रेरित किया जा रहा है। पेड़ लगाने एवं तालाब कुआं खुदाई के लिए सरकार द्वारा कई तरह की योजनाएं हर पंचायत में योजना के तहत संचालित किया जा रहा है जल-जीवन-हरियाली को अक्षरशः धरातल पर उतारने को लेकर जागरूकता लाने के लिए 19 जनवरी को बनने वाली राज्यव्यापी मानव शृंखला बनाकर विश्व में कीर्तिमान स्थापित किया जा रहा है।

इस कार्यक्रम को राजनगर के क्षेत्र में सफल बनाने के लिए पंचायत व प्रखंड स्तर पर दीवारों पर नारा लेखन का कार्य युद्ध स्तर पर हो रहा है। प्रखंडों में दीवार लेखन केआरपी व शिक्षा सेवक के माध्यम से नारा लेखन का कार्य चल रहा है। अबतक हजारों नारा लिखा जा चुका है ।

                 राजनगर में बनने वाली राज्यव्यापी मानव श्रृंखला का मार्ग 13 नम्बर रेलवे गुमटी से राँटी-मंगरौनी-पिलखबाड़-मंगरपट्टी-बिसनपुर-परिहारपुर-नरकटिया चौक राजनगर होते हुए मिर्जापुर-सिमरी-पिपरौलिया-बलाट-रामपट्टी लाल चौक होते हुए राँटी-13 नम्बर गुमटी तक कुल 24 किलोमीटर की मानव श्रृंखला बननी है यह श्रृंखला दिन में 11:30 से 12:00 बजे तक हाथों में हाथ थामकर विशाल श्रृंखला बनाना है।

राजनगर क्षेत्र में केआरपी सुजीत कुमार ठाकुर द्वारा मानव श्रृंखला के प्रचार-प्रसार के लिए चित्र के साथ नारा लेखन जोड़-शोर से किया जा रहा है। उनके और उनके टीम के द्वारा किये जा रहे दीवाल लेखन क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। दीवालों पर चित्र के साथ नारा लेखन आने जाने वाले लोगों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं।

                 उक्त बैठक में डमरूधारी महतो, गणेश साफी, जगदीश महतो, लाल साफी, शोभित सदाय, रमेश साफी, सुलेखा देवी, रेणु देवी, रूबी कुमारी, मो0 हुसैन, अनिकेत राम, मो0 हसीमुद्दीन, नथुनी साफी व अन्य सभी शिक्षा सेवक उपस्थित थे।