मिशन परिवार विकास पखवाड़ा को लेकर प्रखंड स्तरीय समीक्षा बैठक का आयोजन

1751

 14  से चलेगा मिशन परिवार विकास अभियान, दो चरणों में चलेगा अभियान
­
मधुबनी: राज्य में 14 जनवरी से मिशन परिवार विकास अभियान की शुरुआत होगी, जो 31 जनवरी तक चलेगा. यह अभियान दो चरणों में पूर्ण होगा. इसको लेकर प्रखंड विकास पदाधिकारी आशुतोष कुमार की अध्यक्षता में रामेशवर विद्यालय राजनगर मे प्रखंड स्तरीय समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया.
सामुदायिक जागरूकता है जरुरी:
प्रखंड विकास पदाधिकारी आशुतोष कुमार ने बताया परिवार नियोजन पर सामुदायिक जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से ही मिशन परिवार विकास पखवाड़ा का आयोजन किया गया है. परिवार नियोजन को लेकर अभी भी समुदाय में पर्याप्त जानकारी का आभाव है. इसलिए यह जरुरी है कि स्वास्थ्य विभाग के साथ अन्य विभाग भी इस जागरूकता अभियान में सहयोग करें.मांग के अनुसार सेवा प्रदायगी में तेजी पर बल :
केयर इंडिया के डीटीएल महेंद्र सिंह ने बताया संस्थागत प्रसव के बाद लगभग 60% एवं सुरक्षित गर्भपात के बाद लगभग 90% दम्पतियों में परिवार नियोजन हेतु मांग होती है. इसे ध्यान में रखते हुए पखवाड़े के दौरान प्रसव के बाद महिला नसबंदी एवं कॉपर- टी संस्थापन पर अभियान के दौरान विशेष बल दिया जाएगा. इसके लिए प्रसव कक्ष में परिवार कल्याण परामर्शी, एएनएम, स्टाफ़ नर्स के माध्यम से प्रसव एवं गर्भपात के लिए आए हुए इच्छुक महिलाओं को उत्प्रेरित करते हुए सुविधा प्रदान करायी जाएगी.दो चरणों में चलेगा अभियान:
बैठक के दौरान बताया गया कि मिशन परिवार विकास अभियान दो चरणों में चलेगा. अभियान के तहत 14 से 20 जनवरी तक दंपति संपर्क सप्ताह मनाया जाएगा। जबकि 21 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा, दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर ज़ोर दिया जाएगा. वहीँ परिवार नियोजन सेवा सप्ताह के दौरान प्रथम रेफ़रल इकाइयों में नसबंदी शिविर का आयोजन भी होगा.क्या है मिशन परिवार विकास अभियान:
केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कुल प्रजनन दर(प्रति महिला बच्चों की कुल संख्या) में कमी, आधुनिक गर्भनिरोधों के उपयोग को बढ़ाने, गर्भनिरोधक साधनों की सामुदायिक स्तर पर पहुँच सुनिश्चित करने एवं परिवार नियोजन के प्रति जन-जागरुकता को बढ़ाने के लिए उच्च कुल प्रजनन दर की सूची में शामिल बिहार में मिशन परिवार विकास की शुरुआत की गयी है. जिसमें नवीन गर्भनिरोधक साधन अंतरा एवं छाया, सारथी वैन से परिवार नियोजन पर जागरूकता, नवदंपति के लिए नयी पहेली किट एवं सामुदायिक जागरूकता के लिए सास-बहू सम्मेलन जैसी नवीन गतिविधियों को शामिल किया गया है. यह अभियान चार चरणों में संपादित किया जाना है। पहला चरण 11 से 31 जुलाई, द्वितीय 24 नवंबर से 6 दिसंबर के बीच पूरा हो चुका है। जबकि तीसरा चरण 14 जनवरी से शुरु होने वाला है।इस अवसर पर सीडीपीओ ज्योति सिन्हा, ब्लॉक हेल्थ मैनेजर महेश कुमार, केयर इंडिया के बी एम संकेत, अंकित सहित स्कूल के शिक्षक़ उपस्थित थे.