प्रमंडलीय आयुक्त ने कोशी क्षेत्र में स्वतंत्रता संग्राम पुस्तक का किया विमोचन

1570
पहली बार इस पुस्तक से कोशी के अतीत को भी जाना : के सेंथिल कुमार
सहरसा : कोसी क्षेत्र में स्वतंत्रता संग्राम पुस्तक का विमोचन कोसी प्रमंडल आयुक्त के सेंथिल कुमार,इग्नू के क्षेत्रीय निदेशक डॉ मिर्जा असलम बेग,आयुक्त के सचिव रामेश्वर पांडे,उप निदेशक जनसम्पर्क दिलीप कुमार देव ने संयुक्त रूप से किया ।
दूरदर्शन के स्थानीय संवाददाता एवं बाल किशोर के न्यास परिषद के सदस्य डॉ० अरविंद कुमार झा द्वारा लिखित पुस्तक का विमोचन करते हुए प्रमंडलीय आयुक्त ने कहा कि मैं यहां आया तो लगा यहां कोशी और उससे होने वाली बर्बादी ही है ।पहली बार इस पुस्तक से कोशी के अतीत को भी जाना ।उन्होंने कहा कोशी के कई पहलुओं पर कार्य होंगे और आप लोग इसमें सहयोग करें ।
डॉक्टर मिर्जा असलम बेग ने कहा कि रचनाकार इग्नू  के परामर्शी  हैं। उन्होंने अच्छी शुरुआत की है। उनके भी कार्य को बढ़ाने में हमारी शुभकामना है ।उन्होंने अपनी बात इकबाल के शेर से शुरू की।
कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रो रत्नेश्वर  सिंह ने कहा कि इतिहास से प्रेरणा तभी मिलेगा जब हमें पुस्तक उपलब्ध हो। कोशी क्षेत्र का समुचित मूल्यांकन बिना पुस्तक के संभव नहीं है।
हिंदी के प्राध्यापक डॉ नरेन्द्र  प्रसाद यादव ने कहा कि पटना के सात व्यक्ति शहीद हुए तो पूरा बिहार जानता है ।अगर कोशी के अगस्त क्रांति में 8 लोग शहीद हुए इतनी चर्चा नहीं है ।उन्होंने कहा कि पुस्तक में शहीद और उनके परिवार की उपेक्षा पर चर्चा की गई है ।साथ ही महात्मा गांधी के सहरसा  आगमन का विस्तृत वर्णन सराहनीय है ।
पुस्तक के लेखक प्रो० अरविंद कुमार  झा ने कहा कि मैंने स्थानीयता को प्रमुखता देने का प्रयास किया है।  अब तक कई अनछुए पहलुओं की चर्चा की है। गांधी जी ने 2 अप्रैल 1934 को सविनय अवज्ञा आन्दोलन  समाप्ति की घोषणा सहरसा में की। इसकी भी चर्चा इस पुस्तक में की गई है ।
कवि एवं साहित्यकार आचार्य योगेश्वर ने कहा कि लेखक का दृष्टिकोण व्यापक एवं सर्व समावेशी तथा उदार है ।उन्होंने आयुक्त से कोशी क्षेत्र के समृद्ध इतिहास ,साहित्य और संस्कृति पर ध्यान दे ।धन्यवाद ज्ञापन दिलीप कुमार देव ने किया ।
इस अवसर पर राम सुन्दर साहा, वीरेन्द्र पौद्वार, रंजीत कुमार,संजय कुमार, विकास मिश्र, आनंद झा, दिनेश कुमार, मनीष कुमार सहित मीडिया कर्मी मौजूद रहे ।