जिला प्रशासन जान बूझकर एक पक्ष को भड़काने का काम कर रही है :किशोर कुमार

2595
 राष्ट्रदोह का मुकदमा होना चाहिए जो भारतीय कानून का अपमान करने वाले के पक्ष में काम कर रही है।
सहरसा : स्थानीय स्टेडियम में 24 दिसंबर 2019 को निकाले गए CAA और NRC के समर्थन में आयोजित रैली के आयोजन समिति के 17 सदस्यों पर मुकदमा के विरोध में एक दिवसीय धरना का आयोजन पूर्व विधायक  किशोर कुमार मुन्ना की अध्यक्षता में की गई l
इस दौरान पूर्व विधायक  किशोर कुमार मुन्ना ने जिला प्रशासन को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि निर्दोष छात्र नेताओं एवं पढ़ने लिखने वाले युवाओं पर मुकदमा करके जिला प्रशासन जान बूझकर एक पक्ष को भड़काने का काम कर रही है ,जबकि रैली पूरी तरह से शांतिपूर्ण तरीके से निकाली गई थी। ऐसे में एक पक्ष पर ही मुकदमा करके शहर के अंदर अराजकता का माहौल फैलाना चाहती है जो कहीं से भी उचित नहीं है।आगे उन्होंने कहा कि प्रतिनिधि मंडल जो 24 दिसम्बर को जिला पदाधिकारी को ज्ञापन देने गयी थी उसके साथ जिला पदाधिकारी द्वारा बदतमीजी की गई और सम्मानित विधायक एवं पूर्व विधायकों के साथ गलत शब्दों का प्रयोग किया गया जिसका इस धरना के माध्यम से घोर निंदा किया जाता है ।
वही पूर्व विधायक संजीव कुमार झा ने कहा कि राज्यसभा और लोकसभा से पारित कानून के खिलाफ जिन लोगों ने सड़कों पर संविधान की अवहेलना की उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का इस प्रशासन में हिम्मत नहीं है और  इन निर्दोष लड़कों पर मुकदमा कर शहर के माहौल को खराब करना चाह रही है ।अगर उन्हें मुकदमा करना है तो हम  लोगों पर करें ।भारत के संसद के द्वारा पारित कानून के समर्थन में मार्च निकालना संसद का सम्मान करना है ऐसे में इन युवाओं पर जिला पदाधिकारी द्वारा ,पुलिस कप्तान द्वारा मुकदमा करना संसद का अपमान से कम नही है ।इन पर भी राष्ट्रदोह का मुकदमा होना चाहिए जो भारतीय कानून का अपमान करने वाले के पक्ष में काम कर रही है।  पूर्व विधायक डॉ आलोक रंजन ने इस धरने को संबोधित करते हुए कहा की संविधान के न्याय संगत इस कानून का विरोध करना कहां से उचित है जबकि इस कानून पर राज्यसभा एवं लोकसभा दोनों सदनों में काफी बहस हुआ है। उसके बावजूद भी जानबूझकर अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए विपक्ष इसके विरोध में सड़क पर तांडव करवा रहे हैं।
पूर्व विधायक सुरेंद्र यादव ने भी धरना को संबोधित करते हुए डीएम एवं एसपी को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि अगर मुकदमा करना है तो हम नेताओं पर करके दिखाइए इन निर्दोष बच्चों का क्या कसूर है? मनगढ़ंत मुकदमा करके इनके भविष्य को बर्बाद करने की एक सोची समझी साजिश है ।
इस धरना को भारतीय जनता पार्टी की महिला मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष लाजवंती झा ने संबोधित करते हुए प्रशासन से अविलंब मुकदमा वापस लेने की मांग की है।
वही इस धरने में पटना विश्वविद्यालय के पूर्व संयुक्त सचिव सह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राजा रवि ने कहा की यह तो नागरिकता देने का कानून है फिर यह छीनने का प्रश्न कहां उठता है ?अब जो लोग हाथों में संविधान और बाबा साहेब की प्रतिमा लेकर घूम रहे हैं उन्हें सोचना चाहिए यह कानून भी उन्हीं बाबासाहेब के बनाए गए संविधान की प्रक्रियाओं से निकल कर आ गया है फिर वह संविधान का अपमान कैसे  नहीं कर रहे हैं ?यह जवाब भी उनको ढूंढना चाहिए l जिन प्रक्रिया से यह कानून लाया गया है वह संवैधानिक है। अगर गैर संवैधानिक होती तो शायद राज्यसभा और लोकसभा के सदन में चर्चा के दौरान ही खत्म हो जाती। लेकिन जान बूझकर देश के अंदर में आज एक माहौल को पैदा करने के उद्देश्य एक समुदाय के लोगों को भड़काने का काम विपक्ष के लोग कर रहे हैं या कहीं से न्यायोचित नहीं है ।
इस धरना को युवा मोर्चा के पूर्व जिला अध्यक्ष  विजय बसंत ने संबोधित करते हुए कहा कि इस देश में घुसपैठियों का कोई स्थान नहीं है और उन घुसपैठियों को निकालने के लिए हमारे सहरसा के लिए नौजवान सड़कों पर थे इन नौजवानों ने इतना बड़ा आयोजन करके उन कुछ पार्टियों। को अल्टीमेटम देने का काम किया है सहरसा की एक एक जनता एक एक युवाओं के साथ खड़े हैं इसीलिए जिला प्रशासन अभिलंब मुकदमा वापस ले अन्यथा परिणाम बहुत बड़ा ही भयंकर होगा इस धरने का संचालन लुकमान अली ने किया वहीं धन्यवाद ज्ञापन प्रणव मिश्रा एवं शारदा कान्त झा ने संयुक्त रूप से किया ।
इस धरने में मौजूद भाजपा महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष पूजा सिंह राठौड़, वार्ड पार्षद राजेश कुमार सिंह,युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष सिद्धार्थ सिंह सिद्धू,संतोष कौशिक,आशीष टिंकु,अरविंद सिंह,मनीष कुमार, अमित आनंद, रंजीत चौधरी, कुश कुमार मोदी, मनोज यादव, रोशन मिश्रा, राजकिशोर यादव, पवन पासवान, शंकर राम, अजित रावत,राजू सिंह,अवजीत आनंद,ज्योतिष सिंह,विकास मिश्रा,दीपनारायण झा, संजीव सिंह, अस्वनी चौबे, रोशन बादशाह, धीरज कुमार,शारदा कान्त झा,मनीष छोटू, रौनक सिंह, कार्तिक कुमार,नवनीत सिंह, गोलू सिंह,नन्हे सिंह, प्रणव मिश्रा, सुजीत सान्याल, रोशन झा,पुनीत आनंद, सौरव वस्त, सुनील यादव, राज चम्पू, अभिषेक सिंह, सुमन सांडिल, शम्भू रॉय, सत्यम चौहान, सोनू कुमार,बंटी सिंह तोमर,नंदू सिंह, अमित सिंह बाबू, आदेश सिंह,नन्हें सिंह,प्रणव मिश्रा,लुकनाम अली,संगम सिंह, हरिओम सिंह,रोशन झा, टिंकु सरकार,राजवीर सिंह,सौरव वस्त,पुनीत आनंद,सत्यम चौहान,अभिषेक सिंह,शम्भू राय,सुनील यादव,कन्हैया सनातनी,सुजीत सान्याल,शारदा कान्त झा, अभिनव सिंह, सुमन सांडिल,तनय झा, आकाश सिंह, नवनीत सिंह,राज सिंह चम्पू,आदर्श झा,अमित आनंद,रतन दुबे,त्रिलोक झा, गौरव सिंह, गौरव परिहार,गौरव छोटू आदि मौजूद थे।