19 जनवरी को ज़िले में 240 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनेगी : शैलजा शर्मा

1835
विधि व्यवस्था के संदर्भ में सभी तैयारियां जारी: एसपी
सहरसा : जल-जीवन-हरियाली, नशा मुक्ति के समर्थन में तथा बाल विवाह एवं दहेज प्रथा मिटाने के लिए 19 जनवरी 2020 को बनने वाली राज्यव्यापी मानव श्रृंखला को सफल बनाने के लिए जन जागरूकता रथ को आज समाहरणालय परिसर से हरी झंडी दिखाकर जिलाधिकारी शैलजा शर्मा ने सहरसा जिला के पंचायतों में अलख जगाने के लिए रवाना किया। प्रचार-रथ एल.ई.डी. स्क्रीन सहित प्रचार के नवीनतम उपकरणों से सुसज्जित है। मानव श्रृंखला में जन भागीदारी के लिए शिक्षा विभाग द्वारा कला जत्थाओं में से एक कला जत्था इस प्रचार वाहन के साथ टैग रहेगी। प्रतिदिन तीन कार्यक्रम का प्रदर्शन कला जत्था के साथ प्रचार वाहन के द्वारा किया जाएगा।
 उल्लेखनीय है कि मानव श्रृंखला में व्यापक जन
भागीदारी के उद्देश्य से जन जागरूकता के लिए सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग द्वारा सभी जिलों में एक-एक प्रचार वाहन भेजा गया है। जिसे मुख्यमंत्री बिहार
नीतीश कुमार ने दिनांक ने 25 दिसंबर को हरी झंडी दिखाकर सभी जिलों के लिए प्रचार रथों को रवाना किया।
मानव श्रृंखला की तैयारियों को लेकर वीडिओ कांफ्रेसिंग के माध्यम से गृरूवार संध्या में प्रभारी सचिव नर्मदेश्वर लाल द्वारा सहरसा जिले के सभी पदाधिकारियों के साथ समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने मानव श्रृंखला की तैयारियों के विषय में बताया कि सहरसा जिले में 240 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनेगी। जो मधेपुरा, सुपौल ओर खगड़िया जिले से जुड़ेगी। इसमें 81 किलोमीटर मृख्य मार्ग एवं 159 किलोमीटर उप मार्ग है। इसके अतिरिक्त हर वार्ड में वार्ड सदस्य के माध्यम से 100 व्यक्तियों की भी श्रृंखला बनेगी जिससे जिले का मानव श्रृंखला की लंबाई बढ़ेगी। तैयारियों के संबंध
में माइक्रोप्लान तैयार किये गये हैं। 100 मीटर पर एक नोडल एवं 01 किलोमीटर पर एक जोनल पदाधिकारी नामित रहेंगे। कौन व्यक्ति कहां खड़े रहेंगे इसकी माइक्रो प्लानिंग की जा रही है। पर्याप्त संख्या में एंबुलेंस,
ग्लूकोज, ओआरएस की व्यवस्था के लिए निर्देश दिये गये हैं। व्यापक जन सहभागिता के लिए नारा लेखन, दीवाल लेखन, होर्डिंग/फलैक्स, कला जत्था, प्रचार रथ, स्टीकर आदि क माध्यम से जन जारूकता की जा रही है।
सभी विभागों के साथ समन्वय के लिए बैठक कर ली गई है। यातायात प्रबंधन की समुचित व्यवस्था रहेगी। सरकारी विद्यालयों के अतिरिक्त, निजी विद्यालयों के
छात्र-छात्राआंे, स्वैच्छिक संगठनों एवं संस्थानों की सहभागिता करायी जा रही है। मानव श्रृंखला के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन सहरसा कृत
संकल्पित है।
 वहीं पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने कहा कि सहरसा जिलान्तर्गत 81 किलोमीटर पर यातायात प्रबंधन लिए सभी जिलों से समन्वय कर व्यवस्था सुनिष्चित करायी जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में चौकीदार के माध्यम से इस संबंध में कारवाई की जा रही है। विधि व्यवस्था के संदर्भ में सभी तैयारियां की जा रही है।
प्रभारी सचिव ने निदेश देते हुए कहा कि मानव श्रृंखला उत्सवी वातावरण में सम्पन्न कराएं। मानव श्रृंखला समाप्ति के उपरांत विषेष सतर्कता बरती जाय।
इस अवसर पर उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह, सिविल सर्जन ललन प्रसाद सिंह,जिला शिक्षा पदाधिकारी जयशंकर,विशेष कार्य पदाधिकारी सहित विभिन्न विभागों के जिलास्तरीय पदाधिकारी
भी मौजूद थे।