सीफ़ार के सहयोग से मीडिया कार्यशाला का आयोजन

1180

स्वास्थ्य विभाग निरंतर प्रयास कर रही है

सहरसा : प्रमंडलीय प्रशिक्षण केंद्र परिवार कल्याण में सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च(सीफ़ार) के सहयोग से जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया है. इस दौरान सीफार के सहायक राज्य प्रबंधक रंजीत कुमार ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर चर्चा की।

इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. ललन प्रसाद सिंह ने बताया समाज में जागरूकता फ़ैलाने में मीडिया की भूमिका अहम होती है. वर्तमान में अभी राज्य की कुल प्रजनन दर 3.2 है. जिसका आशय है एक महिला अपने सम्पूर्ण प्रजनन अवधि में 3 से अधिक बच्चों को जन्म देती है. इस प्रजनन दर में कमी लानी होगी. सरकार द्वारा आगामी वर्षों में राज्य के कुल प्रजनन दर को 3.2 से घटाकर 2.1 तक लाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग निरंतर प्रयास कर रही है. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों के साथ मीडिया के भी सहयोग की जरूरत होगी. परिवार नियोजन में पुरुषों की भी हो समान सहभागिता:
डॉ. सिंह ने कहा परिवार नियोजन का मुख्य उद्देश्य एक खुशहाल परिवार निर्मित करना है. इसके लिए दो बच्चों के जन्म में कम से कम 3 साल का अंतराल जरुरी है. इसके लिए परिवार नियोजन के अस्थायी साधन जैसे कंडोम, गर्भनिरोधक गोली एवं नवीन गर्भनिरोधक साधन अंतरा एवं छाया कारगर है. उन्होंने बताया जिले में पुरुष नसबंदी की स्थिति महिला नसबंदी की तुलना में नगण्य है. इसलिए जरुरी है कि परिवार नियोजन में पुरुषों की भी सामान सहभागिता हो. सामाजिक भ्रांतियाँ के कारण पुरुष नसबंदी के लिए आगे नहीं आ रहे हैं. जबकि इससे किसी भी तरह की मर्दाना या शारीरिक कमजोरी नहीं होती है. इसलिए पुरुषों को भी नसबंदी के लिए आगे आना चाहिए. परिवार नियोजन के बेहतर परिणाम के लिए नवीन गर्भनिरोधक जैसे अंतरा एवं छाया पर लोगों को जागरूक करने की जरूरत है. उन्होंने परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों पर समुदाय को जागरूक करने की अपील की. सारथी रथ से परिवार नियोजन पर जागरूकता:
केयर इंडिया के जिला परिवार नियोजन समन्वयक श्रवण कुमार ने कहा जिले में परिवार नियोजन पखवाड़े के दौरान सारथी रथ से जागरूकता भी फैलाई जाती है. यह रथ जिले के पंचायत स्तर तक घूम-घूम कर परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों पर जागरूकता फैलाती है.
जिले के 1660 आरोग्य दिवस साईट पर सास-बहू सम्मलेन का आयोजन: श्रवण कुमार ने बताया परिवार नियोजन पर आम लोगों को जागरूक करने के लिए सास-बहू सम्मलेन के रूप में नयी पहल की गयी है. इसमें परिवार नियोजन की जरूरत एवं इसके फायदों के विषय में बात की जाती है. आरोग्य दिवस पर सास-बहू सम्मेलन का आयोजन किया जाता है. जिले में कुल 1660 आरोग्य दिवस साईट है. आगमी जनवरी माह में इन सभी साईट पर समेम्लन का आयोजन किया जाएगा.