बिहार बंद में तोड़फोड़ के विरोध में बाजार बंद,समर्थन में उमड़ा जनसमूह

1339

बिहार बंद के दौरान तोड़फोड़ व मारपीट का विरोध

सहरसा: नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में शनिवार को बिहार बंद के दौरान शरारती तत्वों द्वारा सिमरी बख्तियारपुर मुख्य बाजार में तोड़फोड़ व मारपीट किए जाने के विरोध में रविवार को नगर पंचायत स्थित काली मंदिर प्रांगण में हजारों की संख्या में स्थानीय लोग एकट्ठा होकर हाथों में लाठी डंडा लेकर आक्रोश जुलूस निकाला। जो नगर के डाक बंगला चौक पर से शुरू करते हुए भारत माता की जय का नारा लगाते हुए मुख्य बाजार की बढ़े जैसे-जैसे जुलूस आगे बढ़ता गया और भीड़ बढ़ कर हजारों की संख्या में तब्दील हो गयी। हालांकि इस सुनियोजित जुलूस को लेकर प्रशासन अलर्ट मोड़ पर थी और रात से ही हर चौक-चौराहों पर पुलिस बल तैनात कर रखी थी। जुलूस के साथ थानाध्यक्ष रणवीर कुमार पुलिस बल के साथ चल रहे थे। इसी बीच कुछ शरारती तत्वों ने जुलूस का रास्ता रानीबाग की ओर मोड़ दिया। जिसे पुलिस ने अपनी सूझबूझ से पुन: बाजार की ले आयी। हालांकि तब तक दूसरे समुदाय के लोगों में चर्चा हो गई कि बाजार से कल हुए बंदी में प्रदर्शन से आक्रोशित लोग हाथों में लाठी डंडा से लैस होकर आपत्तिजनक शब्द का प्रयोग करते रानीबाग की ओर आ रहे हैं। यह आग तरह फैल गई और दूसरे तरफ से भी लोग लाठी-डंडा लेकर सड़क पर उतर आए और दोनों तरफ से पत्थरबाजी करने लगे। तब तक इस घटना की सूचना पर पूर्व से पहुंचे पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार, एएसपी बलराम चौधरी, एसडीओ वीरेंद्र कुमार, एसडीपीओ मृदुला कुमारी घटना स्थल पर पहुंच मामले को शांत कराया और दोनों पक्षों से आपसी सौहार्द बनाए रखने की अपील की। वहीं दो पक्षों की बीच तनाव को देखते पुलिस बलों की तैनाती कर दी।

श्रोत:#दैनिक_जागरण