देश‍ हित में है NRC और CAA,इस मुद्दे पर जनता को गुमराह करना सही नहीं : किशोर कुमार

1013

एनआरसी और सीएए देश हित में है

सहरसा : देशभर में एनआरसी और सीएए के विरूद्ध हो रहे प्रदर्शन के बाद आज पूर्व विधायक सह भाजपा नेता किशोर कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि एनआरसी और सीएए देश हित में है। सीएए 2019 समय की मांग है और एनआरसी पूरी तरह से अगल है। लेकिन कांग्रेस समेत पूरा विपक्ष देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं और हिंसक विरोध को प्रेरित कर रहे हैं। यह गलत है, इसकी निंदा की जानी चाहिए।किशोर कुमार ने कहा कि हिन्दू समाज को पाकिस्तान में खुलकर जीने का अधिकार नहीं था। त्योहार खुलकर मनाने की आजादी नहीं थी। बहु- बेटियों का जबरदस्ती किया जाता था और उनका जबरन धर्म परिवर्तन करवाया जाता था। बच्चों को स्कूलों में कलमा पढ़ने के लिए मजबूर किया जाता था। कमोबेश यही हालत पाकिस्‍तान, बंगलादेश और अफगानिस्‍तान में अल्‍पसंख्‍यकों की है। ऐसे में हमारा फर्ज बनता है कि हम उनकी रक्षा करें और इसके लिए देश की पूर्व की सरकारों ने प्रयास किया था, लेकिन यह काम  प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री  अमित शाह जी ने कर दिखाया है।उन्‍होंने कहा कि सीएए से देश के किसी नागरिकों को कोई दिक्‍कत नहीं होने वाला है। यह कानून नागरिकता देने की, लेने की नहीं है। इसलिए किसी को इस बात की चिंता नहीं करना चाहिए। जो लोग विरोध कर रहे हैं, सरकार ने सीएए के बारे में विज्ञापन भी दिया है। वे इस कानून के बारे में पूरी जानकारी लें। गृहमंत्री ने छात्रों से भी अपील करते हुए कहा कि वे पहले ढंग से कानून के बारे में पढ़े, फिर भी कोई आपत्ति हो तो सरकार उनका पक्ष सुनेगी और उनका समाधान भी करेगी। लेकिन बिना कानून को जाने देश में हिंसा करने की इजाजत न किसी को है और न किसी को होनी चाहिए। अधिनियम से जुड़ी कई प्रकार की अफ़वाहें और ग़लत सूचनाएँ फैलाई जा ही हैं, लेकिन ये किसी भी तरह से सच नहीं है।एनआरसी को लेकर किशोर कुमार ने कहा कि कि दुनिया में कोई भी ऐसा देश नहीं है, जहां कोई भी जाकर बस सकता है। देश के नागरिकों का रजिस्टर होना समय की जरूरत है, न केवल असम बल्कि देश भर में एनआरसी लागू होगा। एनआरसी के अलावा देश में जो भी लोग हैं, उन्हें कानून प्रक्रिया के तहत बाहर किया जाएगा। लेकिन जो देश के लोग हैं, उनको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। चाहे वो हिंदू हो, मुसलमान हो या‍ फिर कोई और समुदाय। वैसे भी अभी किसी राष्ट्रव्यापी एनआरसी की घोषणा नहीं की गई है। अगर कभी इसकी घोषणा की जाती है तो ऐसी स्थिति में नियम और निर्देश ऐसे बनाए जाएंगे ताकि किसी भी भारतीय नागरिक को परेशानी न हो।संवादाता सम्मेलन में विभाग प्रचारक सन्तोष जी, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के जिला संयोजक लुक़मान अली ,सुजीत सान्याल ,विजय वसंत, ,राजीव रंजन साह , कुश मोदी ,रंजीत चौधरी, नीरज राम आदि उपस्थित थे।