अब आरोग्य दिवस पर प्रदान की जाने वाली सेवाएँ और सशक्त होंगी

1228

केयर इंडिया के सहयोग से जिले के सभी ब्लॉक के एएनएम को दी गई ट्रेनिंग
1 वर्ष तक के बीमार बच्चों को निःशुल्क एम्बुलेंस
आरोग्य दिवस पर प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर हुयी चर्चा

मधुबनी: सुरक्षित मातृत्व सुनिश्चित करने की दिशा में आरोग्य दिवस प्रभावी साबित हो रहा है. इसी क्रम में मंगलवार को जिले के सभी प्रखंडों के एक-एक एएनएम को आरोग्य दिवस पर प्रदान की जाने वाली सेवाओं को लेकर केयर इंडिया के सहयोग से ट्रेनिंग दी गई. इस दौरान आरोग्य दिवस पर प्रदान की जाने वाली सेवाओं के बारे में एएनएम को विस्तार से जानकारी दी गयी. जिसमें प्रसव पूर्व जांच, टीकाकरण, परिवार नियोजन परामर्श की उपयोगिता एवं सही प्रबंधन के विषय में बताया गया. सुरक्षित मातृत्व में कारगर:
इस अवसर पर केयर इंडिया के डीटीओ ऑन पिऊष बंसल ने बताया सप्ताह के प्रत्येक शुक्रवार को जिले के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर वीएचएसएनडी का आयोजन किया जाता है. जिसमें आशा, एएनएम एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मदद से प्रसव पूर्व जाँच एवं बच्चों के टीकाकरण के अलावा नवजात की देखभाल एवं परिवार नियोजन पर परामर्श भी दिया जाता है. उन्होंने सभी एएनएम को संबोंधित करते हुए कहा आरोग्य दिवस पर प्रदान की जाने वाली सभी सेवाओं के बेहतर क्रियान्वयन से मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लायी जा सकती है. गर्भावस्था से लेकर शिशु के दो वर्ष की आयु तक का समय महत्वपूर्ण होता है. इस दौरान माता के बेहतर पोषण के साथ प्रसव पूर्व जाँच भी जरुरी होता है. इसलिए सभी एएनएम की जिम्मेदारी है कि वह अपने क्षेत्र में शत-प्रतिशत गर्भवती माताओं की प्रसव पूर्व जाँच को सुनिश्चित करें. 1 वर्ष तक बीमार बच्चों को निःशुल्क एम्बुलेंस
सिविल सर्जन डॉ. मिथलेश झा ने बताया आरोग्य दिवस की सहायता से सामुदायिक स्तर पर प्रसव पूर्व जाँच एवं टीकाकरण की सुविधा आसानी से उपलब्ध हो पा रही है. इसमें आशा, एएनएम एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका है. स्वास्थ्य विभाग भी इस दिशा में निरंतर प्रयासरत है. इसके लिए क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं के क्षमता वर्धन की जरूरत को ध्यान में रखते हुए निश्चित अंतराल पर इस तरह के प्रशिक्षण का आयोजन किया जाता है. उन्होंने बताया सरकार द्वारा मां व बच्चे को बेहतर देखभाल प्रदान कराने के लिए जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है। इस कार्यक्रम के तहत शिशु को विशेष सुविधा प्रदान की गयी है। 1 साल तक बीमार बच्चों को घर से अस्पताल तक निःशुल्क एम्बुलेंस की सुविधा भी प्रदान की गयी है।
इस दौरान अन्य जिला स्तरीय स्वास्थ्य पदाधिकारी के साथ सभी प्रखंडों की एक-एक एएनएम उपस्थित थे.