लागू नहीं होने देंगे संविधान विरोधी नागरिकता संशोधन कानून : अनिल कुमार

810

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ 18 दिसंबर को जनतांत्रिक विकास पार्टी सभी मुख्‍यालय पर देगी धरना

पटना : केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बाबा साहब, सरदार पटेल और जवाहरलाल नेहरू के संविधान पर लगातार आघात पहुंचाया जा रहा है। इस सरकार लगातार संविधान पर हमला कर रही है। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि अब गोरे अंग्रेज की जगह पर काले अंग्रेज आ गए हैं। आज इन काले अंग्रेज से संविधान को बचाने की नौबत आ पड़ी है, क्‍योंकि ये काले अंग्रेज गोरे अंग्रेजों से अधिक खतरनाक है। तभी ये संविधान विरोधी NRC और CAA  गलत तरीके से देश पर थोपना चाह रहे हैं, जिसे जनतांत्रिक विकास पार्टी बिहार में कभी लागू होने नहीं देगी। इसलिए पार्टी ने निर्णय लिया है कि संविधान विरोधी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ और बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा देने की मांग को लेकर आगामी 18 दिसंबर को प्रदेश के सभी‍ जिला मुख्‍यालयों पर एकदिवसीय धरना देगी।उक्‍त बातें आज जनतांत्रिक विकास पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष श्री अनिल कुमार ने पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कही। उन्‍होंने कहा कि  आज देश की अर्थव्‍यवस्‍था पूरी तरह से चौपट हो गई। जीडीपी निम्‍नतम स्‍तर पर है। ग्रोथ माइनस में है। पाकिस्‍तान की बातें तो खूब करते हैं कि लेकिन पाकिस्‍तान की जीडीपी भारत से अच्‍छी है। लेकिन इसकी चिंता सत्ता में बैठे लोगों को नहीं है। वे इन मुद्दों पर सवाल  नहीं उठने देना चाहते हैं। इसलिए दोबारा सरकार बनने के बाद तीन तलाक, 370, NRC और नागरिकता संशोधन कानून लाकर देश के संविधान को कमजोर करने की कोशिश की गई और उन्‍माद फैलाया गया है।अनिल कुमार ने कहा कि जब देश की अर्थ व्‍यवस्‍था पहले से ही बेहद खराब है। ऐसे में सत्ता में बैठे लोगों को इसकी चिंता न होकर संविधान विरोधी कानून की चिंता है।  नोट बंदी और जीएसटी ने देश की कमर तोड़ रखी है। उन्‍होंने कहा कि यह सरकार एक समुदाय को टारगेट कर काम कर रही है। हमारा संविधान धर्मनिरपेक्ष है, लेकिन फिर भी ऐसे कानून की क्‍या जरूरत है। हम सभी धर्मों और समुदाय के साथ मिलकर अच्‍छे से रह रहे हैं। कहां दिक्‍कत है। उन्‍होंने कहा कि बिहार में भी डबल इंजन की सरकार है। खुद धर्मनिरपेक्षता की बात करने वाले मुख्‍यमंत्री ने भी इसे लोकसभा और राज्‍य सभा में तार – तार होने के लिए छोड़ दिया। नीतीश कुमार ने तो पार्टी के संविधान को भी कुर्सी के लिए दरकिनार कर दिया। हम कहना चाहते हैं कि देश में जिस तरह से संविधान सम्‍मत धर्मनिरपेक्षता को खत्‍म करना चाहती है, हमारी पार्टी उसका पुरजोर विरोध करेगी। हम 18 दिसंबर को धरना देंगे और हमने तय किया है CAA को बिहार में कभी लागू नहीं होने देंगे। अगर जरूरत पड़ी तो अपने प्राणों की आहूति देंगे, लेकिन इस कानून को लागू नहीं होने देंगे।संवददाता सम्‍मेलन में जनतांत्रिक विकास पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष संजय कुमार मंडल और नरेंद्र मोहन जी भी मौजूद रहे।