लक्ष्य की टीम के द्वारा सदर अस्पताल का किया गया निरीक्षण

2347

टीम ने प्रसव कक्ष को दिए 85%
ऑपरेशन थियेटर मे कुछ कमियों के कारण चूके लक्ष्य पाने से
जाँच टीम ने दिया 15 दिन का समय
मधुबनी : लक्ष्य योजना के तहत चयनित सदर अस्पताल का निरिक्षण राज्य स्तरीय टीम के दो सदस्य डॉ.विकास पांडे एवं राहुल गोगिया ने किया। इस दौरान टीम ने प्रसव कक्ष और ऑपरेशन थियेटर का जायजा लिया। राज्य स्तरीय टीम ने हरएक बिंदुपर जांच की। वहां मौजूद डॉक्टर व कर्मियों से पूछताछ की गयी । टीम ने दो दिनों तक निरिक्षण किया |
प्रथम दिन टीम ने प्रसव कक्ष की जाँच की जहां साफ सफाई का स्तर, स्टाफ की उपलब्धता, लेबर रूम के अंदर जरुरी संसाधन, औरब्लड बैंक में गर्भवती महिलाओं के लिए खून की कमी होने पर 24/7 ब्लड उपलब्ध होना पर संतोष जाहिर किया तथा 85% अंक दिए| किन्तु ऑपरेशन थियेटर मे कुछ कमियों के कारण सादर अस्पताल लक्ष्य पाने से चूक गए|इन खामियों को पूरा करने के लिए जांच टीम के द्वारा सदर अस्पताल को 15 दिन का समय दिया गया है जिसके बाद जांच टीम पुनः अस्पताल आकर गुणवत्ता की जांच करेगी तथा उस आधार पर अस्पताल की रेंकिंग की जाएगी।तीन स्तर पर रैंकिंग:सिविल सर्जन डॉ. मिथलेश झा ने बताया लक्ष्य योजना के तहत चयनित अस्पताल का तीन स्तर पर रैंकिंग की जाती है। सदर अस्पताल पहले जिला स्तरीय टीम जांच करती है। फिर राज्य स्तरीय टीम जांच करती है। राज्यस्तरीय टीम अपनी जांच रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। सरकार द्वारा यह रिपोर्ट केंद्रीय टीम को भेजी जाएगी जिसके बाद केंद्रीय टीम सदर अस्पताल का निरीक्षण कर क्वालिटी की जांच करेगी। अगर रैंकिंग में 70 प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त होता है तो सदर अस्पताल को 3 लाख रूपये का इनाम दिया जायेगा। मुख्य रूप से अस्पतालों के प्रसव कक्ष तथा ऑपरेशन कक्ष को लक्ष्य कार्यक्रम के मानक के अनुरूप विकसित किया गया है।मरीजों व परिजनों से टीम ने लिया फीडबैक:जांच टीम ने सदर अस्पताल में आये मरीजों व उनके परिजनों से भी फीडबैक लिया। टीम ने मरीज के परिजनों से अस्पताल द्वारा दी जाने वाली सुविधा व जानकारियों के बारे में पूछताछ किया गया। मरीजों व परिजनों ने कहा वहां पर मिलने वाली सुविधाओं से वह पूरी तरह से संतुष्ट है। अब पहले से बेहतर सुविधा मिल रही है। गुणवत्ता में भी सुधार किया गया है।70 प्रतिशत उपलब्धि पर सांत्वना पुरस्कार:तय मानकों के सापेक्ष 70 प्रतिशत उपलब्धि पर सांत्वना पुरस्कार दिए जाने का भी प्रावधान बनाया गया है। सांत्वना पुरस्कार के रूप में सदर अस्पताल को 3 लाख, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों या अनुमंडलीय अस्पतालों को 1 लाख एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को 50,000रुपए दिए जाते हैं।
इन मानकों पर तय होते हैं पुरस्कार:
• अस्पताल की आधारभूत संरचना
• साफ-सफाई एवं स्वच्छता
• जैविक कचरा निस्तारण
• संक्रमण रोकथाम
• अस्पताल की अन्य सहायक प्रणाली
• स्वच्छता एवं साफ़-सफाई को बढ़ावा देना
मौके पर डीपीएम दयाशंकर निधि, अस्पताल प्रबंधक अब्दुल मजीद,लेबर रूम इंचार्ज माधुरी कुमारी,केयर इंडिया के एनएमएस अमनदीप मौजूद थे|