सरकार की बलात्‍कारियों को बचाने की मानसिकता से क्‍या बचेगी बेटी:पप्पू यादव

89

हैदराबाद मामले में न्‍याय की मांग कर रही महिलाओं से दुर्व्‍यवहार पर गरजे पप्‍पू यादव

 प्रदेश अध्‍यक्ष आभा राय ने एडीएम पर लगाया दुर्व्‍यवहार व कपड़ा फाड़ने का आरोप

बलात्‍कार मामले में दो हफ्ते के अंदर स्‍पीडी ट्रायल दोषियों को मिले सजा : पप्‍पू यादव

पटना : हैदराबाद की डॉक्‍टर बेटी के साथ हुए दुष्‍कर्म के बाद हत्‍या मामले में न्‍याय की मांग और देश में महिलाओं पर लगातार बढ़ रहे यौन हिंसा के खिलाफ पटना के गर्दनीबाग स्थित धरना स्‍थल पर धरना दे रही जन अधिकार महिला परिषद की महिलाओं ने पटना पुलिस – प्रशासन पर दुर्व्‍यवहार का आरोप लगाया। इस दौरान महिला परिषद की प्रदेश अध्‍यक्ष आभा राय ने बताया कि जब वे महिलाओं की सुरक्षा और हैदराबाद की बेटी को न्‍याय दिलाने के मुद्दे पर शांतिपूर्ण तरीके से धरना दे र‍हे थे, तभी एडीएम कृष्‍ण कन्‍हैया सिंह ने वहां आकर महिलाओं के साथ गलत व्‍यवहार किया। इतना ही नहीं, प्रशासन द्वारा महिलाओं को भद्दी गालियां भी दी गई और हाथापाई भी की गई। साथ ही कपड़े भी फाड़े गए। यह अलोकतांत्रिक है। जन अधिकार महिला परिषद इसकी तीखी भर्त्‍सना करती है।

वहीं, महिलाओं के साथ दुर्व्‍यवहार मामले में धरना स्‍थल पर पहुंचे जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पप्‍पू यादव नीतीश सरकार को निशान बनाया और कहा कि बेटी को बचाने की बात करने वाली सरकार बेटी को जलाने वाले को बचाने का काम कर रही है। चाहे वो मामला यूपी, हैदराबाद, बिहार, झारखंड या अन्‍य जगहों पर हो। हर जगह सरकार की बलात्‍कारियों को बचाने की मानसिकता खुलकर सामने आयी है। क्‍या ऐसे बेटी बचेगी ? उन्‍होंने कहा कि शांतिपूर्ण धरना पर बैठी महिलाओं पर लाठी चलाने और कपड़े फाड़ने वाली वाली पुलिस अपराधियों पर कार्रवाई करने में क्‍यों नाकाम है?

पप्‍पू यादव ने कहा कि हमारी पार्टी मांग करती है बलात्कारियों को दो सप्‍ताह के अंदर स्‍पीडी ट्रायल के जरिये   सजाए मौत दी जाये, चाहे वो बलात्कारी हैदराबाद में हो  नालन्दा, मोतिहारी, बिहार  के अन्य जिलों  में। यह मामला बेटी का है, इसे धर्म से नहीं जोड़ा जाए  यह मामला धर्म का नहीं। इसलिए ऐसे मामलों में धर्म – जाति जैसी चीजों को खींचना गलत है। इस मामले में राजनीति करने के स्थान पर ऐसे कुकर्मी को को सजा दिलाने की आवश्यकता है जो समाज में बेटियों के साथ घृणित कार्रवाई करते हैं। उन्‍होंने कहा कि जब देश में आत्‍मा और आस्‍था के नाम पर मंदिर – मस्जिद का फैसला आ सकता है, तो बेटी को बचाने के लिए कोई कठोर फैसला क्‍यों नहीं आता है। हम मांग करते हैं कि अब कैंडल की जगह बलात्‍कारियों को जलाने की जरूरत है।


इस अवसर पर महिला परिषद की  ज्योति चंद्रवंशी, वंदना कुमारी, कंचनमाला, रेणु जायसवाल, युवा परिषद की ईशा यादव के साथ जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, प्रदेश अध्यक्ष रघुपति सिंह, पूर्व विधायक  रामचंद्र यादव,  प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष राघवेंद्र सिंह कुशवाहा, प्रदेश के प्रधान महासचिव सूर्यनारायण साहनी, प्रदेश महासचिव अरुण सिंह ,पटना पूर्वी अध्यक्ष नवल यादव, महानगर अध्यक्ष दिलीप यादव ,मनोज कुमार, रजनीश तिवारी, प्रवक्ता प्रेम सिंह, सत्येंद्र यादव सहित सैकड़ों की संख्या में महिलाएं शामिल थी।