BPSC में 38वां स्थान प्राप्त करने वाले भास्कर ज्योति ने छात्रों के बीच अपने अनुभव साझा किए

622

यथार्थ क्लास पटना में कार्यक्रम आयोजित

पटना: मुसल्लहपुर स्थित यथार्थ क्लास में बीपीएससी में 38वां स्थान प्राप्त करने वाले भास्कर ज्योति ने छात्रों के बीच अपने अनुभव साझा किए।

बच्चों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सिविल सेवा या किसी भी नौकरी के लिए बहुत ज्यादा मेहनत के बजाय स्मार्ट वर्क पर ध्यान देना चाहिए। पढ़ाई के साथ-साथ रचनात्मक गतिविधियों में भी लगे रहना चाहिए। जिससे आपके व्यक्तित्व का विकास होगा। सिविल सेवा की परीक्षा के लिए एनसीईआरटी की किताबें बहुत उपयोगी होती हैं। अखबारों का निरंतर अध्ययन आपकी सफलता सुनिश्चित करता है। बाकी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों से उन्होंने कहा कि किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के ग्रेजुएशन का थर्ड ईयर सबसे अनुकूल समय होता है। इसीलिए छात्रों को सिलेबस को ध्यान में रखते हुए तैयारी करनी चाहिए। निरंतरता बनाये रखनी चाहिए। क्योंकि सफल होने के लिए निरंतर अभ्यास ही सबसे जरूरी है। सफलता के लिए कांसेप्ट साफ होना चाहिए, इसके लिए कोई शार्ट कट नहीं होता है। हर परीक्षा के पैटर्न में लगातार बदलाव होते रहता है। इसलिए यह जरूरी है कि छात्र नए पैटर्न को समझें। पुराने प्रश्न पत्र को सॉल्व कर के अपने अभ्यास को बेहतर बना सकते हैं। इस दौरान उन्होंने छात्रों के सवालों का जवाब भी सहजता से दिया। उन्होंने कहा कि बिहार के छात्रों में बहुत प्रतिभा है। सिर्फ सही मार्गदर्शन से वे आसानी से सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इससे पूर्व संस्थान के निदेशक रजनीश झा एवं अभिषेक राज ने चादर और मोमेंटो से भास्कर ज्योति का स्वागत किया। मंच संचालन राजा रवि ने किया। इस मौके पर प्रसिद्ध वरिष्ठ फोटोग्राफर प्रशांत राज जी ,शुभम ,सर्वेश,दामोदर और सैकडों बच्चे मौजूद थे।