उग्रतारा महोत्सव में अपूर्वा व साधना की गायकी ने मचाई धूम

349

30 सितंबर से 2 अक्टूबर तक चला महोत्सव

सहरसा@रितेश हन्नी– बिहार के सहरसा जिले के महिषी ग्राम स्थित माँ उग्रतारा शक्तिपीठ किसी परिचय का मोहताज नहीं है। यहाँ देश के कोने-कोने से लेकर विदेश तक से श्रद्धालु बारहों महीने पहुँचकर पूजा-अर्चना करते हैं।श्रद्धालुओं के आकर्षण के लिए महिषी के खेल मैदान में राज्य सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा हर साल तीन दिवसीय उग्रतारा महोत्सव का आयोजन किया जाता है। यह महोत्सव लाखों खर्च कर जिला प्रशासन द्वारा इसका आयोजन होता है। वैसे तो इस बार इस महोत्सव में एक से बढ़कर सुर साधक और साधिकाओं ने हिस्सा लिया लेकिन सबसे अधिक तालियां और सुर्खियां बटोरी अपूर्वा प्रियदर्शी और साधना सरगम ने।आपको बताते चलें कि सहरसा जिले के विराटपुर गाँव की रहने वाली अपूर्वा महज कम उम्र में ही बिहार के लिए एक गौरव के रूप में उभरी है। वहीं महोत्सव में सुरों की मल्लिका साधना सरगम ने भी कार्यक्रम प्रस्तुत किये। दर्शक दोनों ही गायिका के गानों पर घनघोर तालियाँ बजी और थिरकते नजर आये। अपनी चमत्कारिक आवाज से अपूर्वा व साधना ने लोगों के दिलों में ना केवल खास जगह बना ली है बल्कि आने वाले कई वर्षों तक लोग अपूर्वा और साधना की आवाज को सिद्दत से अपने जेहन में सहेज कर भी रखेंगे।आपको बता दें कि 30 सितंबर से 2 अक्टूबर तक चले इस तीन दिवसीय महोत्सव की आखिरी रात अपूर्वा व साधना ने अपने सुरों का अमिट जलवा बिखेड़ा।