विनाइल रैपिंग वाली नई एलएचबी रेक के साथ सप्तक्रांति एक्सप्रेस चली

1097

सांसद द्वारा स्टेशन पर स्वच्छता के लिए श्रमदान भी किया गया

डेस्क : 2 अक्टूबर 2019 को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर महात्मा गांधी के जीवन दर्शन को दर्शाती ‘मोहन से महात्मा’ विषय पर आधारित विनाइल रैपिंग वाली नई एलएचबी रेक के साथ मुजफ्फरपुर से 12557 मुजफ्फरपुर-आनंद विहार सप्तक्रांति एक्सप्रेस को रवाना किया गया । अधिक सुरक्षित और आरामदायक एलएचबी रेक में परिवर्तित यह सप्तक्रांति एक्सप्रेस की पहली रेक है।

नए एलएचबी रेक के साथ तथा सभी कोच विनाइल रैपिंग द्वारा महात्मा गांधी के जीवन से जुड़े “मोहन से महात्मा” के रूप में दर्शाए गए गाड़ी संख्या 12557 सप्त क्रांति एक्सप्रेस को स्वतंत्रता सेनानी  राम सजीवन ठाकुर, उम्र 92 वर्ष और मुजफ्फरपुर स्टेशन के वरिष्ठतम कर्मचारी शंभू राम, पॉइंटमैन ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।इसके उपरांत 02अक्टूबर, 2019 को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर पूर्व मध्य रेल के बापूधाम मोतिहारी स्टेशन पर विशेष आयोजन के अंतर्गत सांसद  राधा मोहन सिंह सहित अन्य तथा पूर्व मध्य रेल के अपर महाप्रबंधक  अरुण कुमार शर्मा, समस्तीपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक तथा अन्य द्वारा महात्मा गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई। सांसद  राधा मोहन सिंह द्वारा वहां उपस्थित सभी को स्वच्छता शपथ दिलाई गई।

इसके उपरांत बापूधाम मोतिहारी स्टेशन पर विशेष आयोजन के अंतर्गत माननीय सांसद  राधा मोहन सिंह सहित पूर्व मध्य रेल के अपर महाप्रबंधक  अरुण कुमार शर्मा द्वारा ‘मोहन से महात्मा’ विषय पर आधारित विनाइल रैपिंग वाली नई एलएचबी रेक के साथ चलाई जा रही 12557 मुजफ्फरपुर-आनंद विहार ट. सप्तक्रांति एक्सप्रेस का स्वागत व प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया।

इसके साथ ही ट्रेन में सवार यात्रियों के बीच जूट के थैलों और गांधी जी से जुड़े साहित्य का वितरण भी किया गया।सांसद  द्वारा बापूधाम मोतिहारी स्टेशन पर महात्मा गांधी और चंपारण से संबंधित एक धातु निर्मित पट्ट का अनावरण व बॉटल क्रशिंग मशीन का उद्घाटन किया गया।बापूधाम मोतिहारी स्टेशन पर सांसद  राधा मोहन सिंह द्वारा महात्मा गांधी से संबंधित पुस्तक प्रदर्शनी तथा ‘मोहन से महात्मा’ विषय पर आधारित महात्मा गांधी के जीवन दर्शन को दर्शाती एक चित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ किया गया.इस चित्र प्रदर्शनी के माध्यम से आमजन महात्मा गांधी के जीवन दर्शन से परिचित हो सकते हैं.