सहरसा में पढ़कर ढाबा संचालक के बेटे का IVRI में हुआ चयन

1371
प्रगति क्लासेस का छात्र सफल
रितेश राज जिन्होंने मेहनत से न सिर्फ अपने माता-पिता,शिक्षण संस्थान का नाम रौशन किया बल्कि अपने सपने को भी साकार किया। रितेश का परिवार बेहद साधारण परिवार है। पढ़ाई में किसी तरह की रुकावट न हो इसके लिए रितेश ने हर परिस्थिती में खुद को मजबूत बनाए रखा।
बता दें कि रितेश के पिता बंगाली बाजार सहरसा(ढाला के करीब) में एक ढाबा(नास्ता,खाने) चलाते है।सहरसा मुख्ययाल के प्रगति क्लासेस का छात्र एवं सहरसा के बंगाली बाजार में ढाबा चलाने वाले जवाहर यादव के पुत्र रितेश राज का चयन देश के सर्वश्रेष्ठ पशु अनुसंधान केंद्र (भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान) (IVRI) इज्जत नगर बरेली में हुआ ज्ञात है।
 इस संस्थान में चयन नीट के मार्क्स के आधार पर हुआ है ।
संस्थान के संस्थापक नंदन कुमार ने कहा छोटे शहर एवं छोटे शहरों में तैयारी कर जब बच्चे  का इस तरह से बड़े संस्थान में चयन होता है तो यह   हमलोगों के साथ साथ यहां के बच्चों का मनोबल बढ़ता है ।
ज्ञात हो कि रितेश का दसवीं तक की पढ़ाई शांति मिशन एकेडमी से हुई है तथा 12वीं इवनिंग कॉलेज से हुआ है ।
इनके पिता जवाहर यादव ने कहा ढाबा चलाकर अपना जीवन आपन करता हूं सलखुआ के मूल निवासी हूं तथा बच्चों की अच्छी पढ़ाई हेतु हमने गांव छोड़ यहां ढाबा चला बच्चों को  पढ़ाया लिखाया और इस सफलता को देख मन खुश है हम धन्यवाद देना चाहेंगे प्रगति क्लासेज के पूरे टीम को की आपने बहुत मेहनत कर हमारे बच्चों को तराशा है और इस मुकम्मल मुकाम तक पहुंचाया ।अगर यह संस्थान नहीं होता तो हम सोच भी नहीं सकते थे की एक ढाबा चलाने वाले का बच्चा इतना बड़ा संस्थान में पढ़ सकता है।