बेहतर पुलिसिंग के लिए डीआईजी दरभंगा पूरी तरह एक्शन में, अब थानों में प्रबंधकों की हुई प्रतिनियुक्ति

बेहतर पुलिसिंग के लिए डीआईजी दरभंगा पूरी तरह एक्शन में, अब थानों में प्रबंधकों की हुई प्रतिनियुक्ति
ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा
दरभंगा — बेहतर पुलिसिंग के लिए डीआईजी दरभंगा पूरी तरह एक्शन में दिख रहे है। लोगो को परेशानी कम हो और लॉ एंड ऑर्डर पूरी तरह दुरुस्त हो इसके लिए कई योजनाएं तैयार की गई है। डीआईजी क्षत्रनील सिंह ने बताया कि सभी थानों में थानाध्यक्ष के अलावे लॉ एंड आॅर्डर देखने के लिए अलग से पुलिस पदाधिकारी की तैनाती की गई है। वहीं अनुसंधान के लिए अलग से पदाधिकारी होंगे। मालखाना और राइटिंग आॅफिसर के लिए भी अलग अलग पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। इसमें राइटिंग आॅफिसर सिर्फ एएसआई स्तर के पदाधिकारी होंगे। शेष सभी पदों पर सबइंस्पेक्टर और स्तर के पदाधिकारी तैनात किए गए हैं। इसके अतिरिक्त सभी थानों में एक प्रबंधक की भी तैनाती की गई है। जिनके जिम्मे पीड़ितों, स्वागत, थानों में क्रय-विक्रय, इंधन वाहनों की मरम्मत, दूरसंचार, स्टेशनरी एवं बंदी का भोजन आदि का व्यवस्था जिम्में होंगे। यह बिना वर्दी के सभी थानों में तैनात हो गए हैं। डीआईजी सिंह ने बताया कि पुलिस लाइन से स्नातक स्तर के योग्य सिपाही को तत्काल थाना प्रबंधक बनाया गया है। बतादें कि थानाध्यक्ष के अलावे लॉ एण्ड आॅर्डर और अनुसंधान पदाधिकारी कि थाने में नियुक्ति होने से कांडों का त्वरित निष्पादन ही नहीं होगा बल्कि अपराधियों पर नकेल भी लगाया जाएगा। विधि व्यवस्था बेहतर रहेगा। हालांकि इन दोनों पदों की नियुक्ति से थानेदार को परेशानी का भी सामना करना पड़ सकता है। लॉ एंड आॅर्डर देखने वाले पदाधिकारी असामाजिक तत्वों अपराधियों को थाना पर मंडराते हुए देखना नहीं पसंद कर सकते हैं। इधर डीआईजी सिंह ने बताया कि जो लंबित कांड 15 अगस्त से पूर्व निष्पादन नहीं होने पर संबंधित अनुसंधानक पदाधिकारी को सुपुर्द करा दिया जाएगा। वर्तमान समय में 25% पुलिस पदाधिकारियों को अनुसंधान के कार्यों में लगाया गया है। शेष 75% पुलिस पदाधिकारी लॉ एंड आॅर्डर की व्यवस्था को देखेंगे। डीआईजी श्री सिंह ने भूमि विवाद को लेकर बढ़ते अपराध के प्रति गंभीरता दिखाई है। उन्होंने अपने रेंज के तीनों जिला के एसपी से भूमि विवाद से संबंधित बड़े मामलों की सूची तलब की है। उन्होंने यह जानने की कोशिश की है कि उस विवाद में अब तक क्या कार्रवाई की गई है। ऐसे मामलों में उदासीनता को लेकर क्या घटना घट सकती है। यह बताने को कहा है यह सूची सभी जिले के एसपी थाने स्तर पर उपलब्ध उपलब्ध कराएंगे। डीआईजी सिंह ने बताया सूची मिलते ही संबंधित पक्ष व विपक्षियों के बीच चल रहे विवाद को समाप्त करने की प्रक्रिया को तेज किया जाएगा। साथ हींं मामले को लेकर किसी भी तरह की कोई आपराधिक घटना नहीं घटे इसकी कोशिश की जाएगी। नए फरमान के जारी होते अनुशासनिक कार्रवाई विभाग विभागीय कार्रवाई में फंसे दर्जनों पुलिस पदाधिकारियों की बहुत जल्द थानेदार जाने वाली है। कई ऐसे भी पुलिस पदाधिकारी हैं जो थानेदारी के इंतजार में बैठे हैं तो उनका सपना भी अब धरा का धरा रह जाएगा। डीआईजी श्री सिंह ने दरभंगा मधुबनी और समस्तीपुर जिले के एसपी से इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर स्तर के सभी पुलिस पदाधिकारियों की सूची मांगी हैं। जिन पर विभागीय कार्रवाई चल रही है। यह सूची प्राप्त होते हैं संबंधितों थानेदारी से हटाने और थानेदारी देने से मनाही कर दी जाएगी।