रक्तदान के प्रति स्वास्थ्य विभाग की घोर उदासीनता …

178

14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस

सहरसा@रितेश हन्नी : एक तरफ जहां पूरा विश्व रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहा है वही सहरसा स्वास्थ्य विभाग इस मामले में उदासीन रवैया अपनाए हुए है। ज्ञात हो कि 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर बिहार सरकार द्वारा राज्य के विभिन्न जिलो के रक्तदाता एवम रक्तदान करने वाली संस्थाओं को सम्मानित किए जाने का प्रस्ताव है। बहुत ही गंभीर स्थिति है कि सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, खगड़िया आदि जिलों में रक्तदान के लिए समर्पित संस्थाओं में से एक का भी नाम बिहार स्टेट ऐड्स कंट्रोल सोसायटी द्वारा जारी पत्र में नहीं है। इस रवैए को देखकर ग्रामीण क्षेत्र में रक्तदान की जागरूकता फैलाने वाले संस्थाओं ने गहरा दुख व्यक्त किया है।

इस संबंध में सहरसा जिले में रक्तदान के क्षेत्र में कार्य करने वाली संस्था कोशी रक्तदानी महादानी टीम के संस्थापक विष्णु कुमार एवं अध्यक्ष सुभाष चंद्रा ने संयुक्त रूप से वक्तव्य देते हुए प्रेस को बताया कि हमारी संस्था पिछले 2 सालों से हजारों लोगों को रक्त मुहैया कराती रही है एवं समय-समय पर रक्तदान कैंप भी लगाती रही है। इसके साथ ही विभिन्न मीडिया द्वारा लगाए गए रक्तदान कैंपों में भी इस संस्था की अग्रणी भूमिका रही है।

इस संस्था के कार्य की सराहना प्रिंट,इलेक्ट्रॉनिक,वेब मीडिया भी कर चुकी है साथ ही कई स्तरों से इस संस्था को सम्मान भी मिल चुका है। इसके बावजूद जिला प्रशासन व जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा बिहार राज्य एड्स कंट्रोल सोसायटी को इस संस्था के बारे में जानकारी नहीं दिया जाना एक गंभीर सवाल पैदा करता है।

संस्था ने मांग की है कि राज्य द्वारा निर्गत निर्देश के आलोक में जिला प्रशासन शीघ्र ही एक बैठक का आयोजन कर रक्तदाताओं के मनोबल को बढ़ाने की दिशा में कार्य करें ताकि अधिक से अधिक लोग रक्तदान के लिये प्रेरित हों।