जिले के कई पंचायतों में घोर जल संकट, लोग कर रहे त्राहिमाम, नही किया गया डीडीसी के आदेश का पालन

जिले के कई पंचायतों में घोर जल संकट, लोग कर रहे त्राहिमाम, नही किया गया डीडीसी के आदेश का पालन
 पंकज कुमार की रिपोर्ट
(मनीगाछी) दरभंगा — बढती गर्मी और जल संकट की समस्या लोगो के जनजीवन को काफी प्रभावित कर रही है। लोग जीने के लिए आस-पड़ोस एव दूर-दूर से पानी पीने के लिए ला रहे है। वर्षा नही होने के कारण जलस्तर नीचे जा चुकी है जिसके वजह से तलाब और चापाकल बिल्कुल सुख चुका है। माल मवेशी, स्नान और पीने की समस्या से लोग अधिक से अधिक परेशान दिख रहे है। प्रखण्ड के राधोपुर पश्चिमी, भंडारिसम, बंधात, माउबेहट, चनौर सहित कई अन्य पंचायत के लोग पानी की घोर किल्लत से जूझ रहे है। अगर बात करे तो सबसे ज्यादा बाजितपुर पंचायत में समस्या है। ग्रामीण पूर्व मुखिया के ससुर सियाराम ठाकुर, अशोक ठाकुर, रंजीत पजियार, महादेव कुमार साहु, कबीर अहमद, संजय कुमार महथा, विश्वनाथ पासवान, गौड़ी ठाकुर, राम रत्न पासवान, दिनेश चौपाल, गौड़ी शंकर साहु, दयानन्द साहु सहित कई लोगो ने हिन्द टीवी 24 को बताया कि गाँव के सभी लोगो का चापाकल बिल्कुल सुख गया है। खासकर स्थानीय बाजार वासी को इस कठनाईओ का अधिक सामना करना पड़ रहा है। जबकि बजार में दूर-दूर से और आस पास के पंचायत के लोगो शादी एव घरेलू समान खरीदने के लिए प्रतिदिन हजारो से अधिक संख्या में आते है और अपनी प्यास बुझाने के लिए इधर-उधर भटकते रहते है।किसी तरह थाना परिसर एव बस स्टैंड स्थित पहुँचकर अपनी प्यास बुझाते है। लोग ने यह भी बताया कि जल संसाधन विभाग को इस समस्या से कई बार अवगत कराया गया परन्तु कोई निवारण नही हो सका है। इस पंचायत में अठारह (18) वार्ड है जिसमे साल 2016-17 एव 2017-18 में सात निश्चय योजना के तहत हर घर नल जल योजना का कार्य एक भी वार्ड में पूर्ण नही हो सका है। कही जलमीनार बनकर तैयार तो पाईप बिछाकर, टंकी चढ़ाकर अधुरा छोड़ दिया गया है। जबकि इस योजना के तहत पंचायत के वार्ड क्रियान्वयन समिति के खाता मेें तीन (03) साल पहले रूपये भेज दिये है, फिर भी मुखिया, वार्ड सदस्य प्रबन्धन समिति, सचिव, पंचायत सेवक, कनीय अभियंता से लेकर प्राइवेट ठीकेदार इस ओर कार्य को धीमी गति से की जा रही है।
प्रखण्ड में कुल 302 वार्ड है जिसमे 151 वार्ड का चयन किया गया है।150 क्रियान्वयन प्रबन्धन समिति का गठन किया गया। 148 वार्ड में प्रशासनिक के द्वारा स्वीकृति कर वार्ड समिति के खाता मेें रूपये दिया जा चुका है। 14 फरवरी 2019 को डीडीसी कारी प्रसाद महतो ने आवेदन संख्या 1183 के द्वारा इस कार्य में तेजी नही किये जाने पर 15 दिन के भीतर ऐसे लोगो पर थाना में कैस दर्ज कराने का आदेश प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को दी गई थी। जिस वार्ड में हर घर नल जल योजना का कार्य शुभारंभ नही किया गया है तो उस वार्ड को चिन्हित कर पीएचईडी विभाग से कार्य कराने का आदेश के होने के बावजूद भी उसी तरह पड़ा हुआ है। इस योजना को सफल होने और नही होने का कोई अन्तर समझ में नही आ रहा है। क्या लोग हर घर नल योजना का लाभ उठा सकते है, इस पर संदेह है ? अगर जल्द से जल्द पानी की समस्या को समाधान नही किया गया तो आने वाले समय में इसका खमियाजा प्रखण्ड प्रशासन, जनप्रतिनिधि को भुगतना पड़ेगा। इस समस्या के सम्बन्ध में प्रखण्ड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार राय ने बताया कि सभी वार्ड सदस्य को अपने-अपने वार्ड में पानी की समस्या है वहाँ हर घर नल योजना का कार्य शुभारंभ नही हुआ है तो अविलम्ब इसकी सूचना प्रखण्ड कार्यालय को दे।
दूसरी ओर बंघात पंचायत में पीएचईडी से जो नल लगाया गया है उससे पानी हमेशा बर्बाद होता रहता है। इस मामले मे पीएचइडी भी फिसड्डी साबित हुआ है। राजे एवं बलौर पंचायत के कई वार्डो मे पेयजल आपूर्ति की जिम्मेदारी पीएचइडी के अधीन है। इन वार्ड मे अभी तक पीएचइडी ने कोई पहल नही की है।